अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

वर्ष 2009 में बदतर होंगे हालात : अहलूवालिया

योजना आयोग के उपाध्यक्ष मोंटेक सिंह अहलूवालिया ने शुक्रवार को कहा कि वैश्विक आर्थिक संकट के जल्द खत्म होने के आसार नहीं हैं और वर्ष 200देश की अर्थव्यवस्था के लिए बेहद खराब साबित होने जा रहा है। उन्होंने कहा कि चालू वित्त वर्ष में भारतीय अर्थव्यवस्था की विकास दर सात फीसदी से कम रहेगी। अहलूवालिया ने यहां आयोजित भारतीय उद्योग परिसंघ (सीआईआई) के राष्ट्रीय सम्मेलन और सालाना बैठक में कहा, ‘‘दुनिया पिछले 60 वर्षो के इतिहास की सबसे गहरी त्रासदी से गुजर रही है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘मुझे नहीं लगता कि यह समस्या 2000 में खत्म हो जाएगी। हमारे नवीनतम आकलन के मुताबिक वर्ष 200तो पिछले साल से भी ज्यादा खराब साबित होगा।’’ अहलूवालिया ने यह भी कहा कि सरकार द्वारा घोषित आर्थिक पैकेजों के कारण 2008-0में देश का राजकोषीय घाटा भी पहले के मुकाबले अधिक होगा। केंद्र सरकार ने गत वर्ष बजट पेश करते समय राजकोषीय घाटे के सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) का 2.5 फीसदी रहने का अनुमान लगाया गया था लेकिन पिछले महीने पेश किए गए अंतरिम बजट में उसे संशोधित कर छह फीसदी कर दिया गया।ड्ढr ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: वर्ष 2009 में बदतर होंगे हालात : अहलूवालिया