अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

रेलवे में नौकरी

भारतीय रेलवे कार्यप्रणाली को प्रमुख रूप से तकनीकी और गैर तकनीकी भागों में बांटा जा सकता है। भारतीय रेलवे ट्रैफिक सेवा (आईआरटीएस), भारतीय रेलवे कर्मचारी सेवा (आईआरपीएस), भारतीय रेलवे लेखा सेवा (आईआरएएस) और रेलवे पुलिस सेवा विभागों में गैर-तकनीक सेवा हेतु ग्रुप ए व बी के पदों पर सीधे भर्ती केंद्रीय लोक सेवा आयोग द्वारा संचालित कंबाइंड सिविल सर्विस एग्जमिनेशन के माध्यम से होती है। यूपीएससी की इस परीक्षा के लिए किसी भी स्ट्रीम से स्नातक उम्मीदवार आवेदन कर सकते हैं।

रेलवे इंजीनियरिंग सेवा में भर्ती के लिए इंजीनियरिंग डिग्री या समकक्ष होना जरूरी होता है। इंडियन रेलवे सर्विसेज ऑफ इंजीनियर्स (आईआरएसई), इंडियन रेलवे सर्विस ऑफ इलैक्ट्रिकल इंजीनियर्स (आईआरएसईई), इंडियन रेलवे सर्विस ऑफ सिग्नल इंजीनियर (आईआरएसएसई) और इंडियर रेलवे सर्विस स्टोर (आईआरएसएस ) में भर्तियां इंडियन इंजीनियरिंग सर्विसेज एग्जमिनेशन (आईईएस) के द्वारा होती हैं।

मैकेनिकल इंजीनियरों के चयन में करीब 50 प्रतिशत भर्तियां आईईएस परीक्षा के द्वारा तथा शेष भर्तियां यूपीएससी द्वारा हर वर्ष आयोजित की जाने वाली स्पेशल क्लास रेलवे एपरैंटिसशिप एग्जमिनेशन के माध्यम से की जाती हैं। ग्रुप सी और डी के कर्मचारियों की नियुक्ति 19 रेलवे रिक्रूटमेंट बोर्ड द्वारा की जती है। विभिन्न विभागों के लिए अधिकारियों अलावा देश के विभिन्न भागों में स्थापित रेलवे रिक्रूटमेंट बोर्ड द्वारा शिक्षकों, फिजिकल इंस्ट्रक्टर, डॉक्टर्स, नर्स व पैरामेडिकल संबंधी लोगों की नियुक्ति देशभर में समय-समय पर आयोजित की जाने वाली लिखित परीक्षा के माध्यम से की जाती है। टीटीसी और असिस्टेंट स्टेशन मास्टरों के पदों पर नियुक्ति के लिए लिखित परीक्षा का आयोजन किया जाता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:रेलवे में नौकरी