अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

समुद्र की निगरानी के लिए उपग्रह प्रक्षेपित करेगा भारत

समुद्र की निगरानी के लिए उपग्रह प्रक्षेपित करेगा भारत

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) अगस्त में यूरोपीय देशों के छह छोटे उपग्रहों के साथ अपने दूसरे समुद्री निगरानी उपग्रह का प्रक्षेपण करने की तैयारियों में जुटा है।

इसरो के निदेशक (प्रकाशन और जनसंपर्क) एस सतीश ने बेंगलुरु से फोन से बताया,‘‘इसरो के धु्रवीय उपग्रह प्रक्षेपण यान (पीएसएलवी 14) से ओशनसेट-2 को 720 किलोमीटर ऊपर सूर्य की समकालिक कक्षा में स्थापित किया जाएगा। यह ओशनसेट-1 का स्थान लेगा।’’

उनके अनुसार अपनी कक्षा में विस्तृत पहुंच के बल पर उपग्रह समुद्र के समान क्षेत्र का दो दिनों में सर्वेक्षण करने में सक्षम होगा।  ओशनसेट-2 का उपयोग संभावित मत्स्य क्षेत्रों का पता लगाने, समुद्र की स्थिति और मौसम की भविष्यवाणी करने तथा जलवायु अध्ययन के लिए किया जाएगा।        

इसरो द्वारा विकसित ओशन कलर मॉनीटर (ओसीएम) और केयू-बैंड पेंसिल बीम स्कैटेरोमीटर के साथ ही सेटेलाइट इटली की अंतरिक्ष एजेंसी द्वारा विकसित रेडियो आक्युलेशन साउंडर फॉर एटमास्फीयरिक स्टडीज (आरओएसए) से युक्त है। स्कैटेरोमीटर 50 गुणा 50 किलोमीटर क्षेत्र में हवाओं की स्थिति और उनकी दिशा की सही जानकारी उपलब्ध कराएगा।

ओशनसेट-2 का जीवनकाल पांच वर्ष निर्धारित किया गया है लेकिन इसका कार्यकाल उसके बाद भी जारी रह सकता है। जैसा कि ओशनसेट-1 के मामले में हुआ, वर्ष 1999 में कक्षा में स्थापित किए जाने के बाद वह अभी तक काम कर रहा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:समुद्र की निगरानी के लिए उपग्रह प्रक्षेपित करेगा भारत