अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

चाज को परिवार समेत मार डालने की धमकी

रायबरेली के बहुचर्चित राकेश पाण्डेय हत्याकांड की सुनवाई पूरी होने के बावजूद मामला निस्तारित नहीं हो पा रहा है। अपर एवं सत्र न्यायाधीश शिवनाथ ने 24 मार्च को अपने आदेश में लिखा है कि इस मामले में उन्हें मय परिवार के जान से मारे जाने का खतरा है। उन्होंने इस बात की जानकारी जिला जज को दी है। जज ने धमकी के मद्देनजर मुकदमे में अगली कार्रवाई के लिए 28 मार्च की तारीख तय की है। उधर पता चला है कि सुप्रीम कोर्ट ने आरोपित विधायक अखिलेश सिंह और इस केस के वादी रायबरेली जिला पंचायत के पूर्व अध्यक्ष मनोज पाण्डेय को दो अप्रैल को तलब किया है।ड्ढr यूपी में इस तरह का यह पहला ऐसा मामला माना जा रहा है जिसमें जज को इस हद तक भयभीत कर दिया गया हो कि उन्हें फैसला देने से पहले जिला जज से निर्देश लेने की जरूरत पड़े। अधिवक्ता आईबी सिंह के मुताबिक धमकियाँ मिलती हैं पर वह अब तक कभी इतनी गंभीर नहीं हुईं। राकेश पाण्डेय की हत्या तीन जुलाई 2002 को रायबरेली में हुई थी। बीती 24 मार्च को इस मामले की सुनवाई के बाद अपने आदेश में कोर्ट नम्बर सात के अपर सत्र न्यायाधीश शिवनाथ ने कहा है - ‘दोनों पक्षों की सुनवाई पूरी हो गई है। दोनोंपक्ष यह लिखकर दे चुके हैं कि बहस पूरी हो गई है। आगे उन्होंने कहा है, ‘किन्तु इस मामले में अप्रत्याशित रूप से मेरे परिवार को जान से मारने की धमकी दी गई है।ड्ढr

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: चाज को परिवार समेत मार डालने की धमकी