DA Image
26 फरवरी, 2020|2:56|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

फर्जीवाड़े में नाइजीरियन समेत चार गिरफ्तार

गुलाबी बाग पुलिस ने एक ऐसे गिरोह का पर्दाफाश किया है, जो गिफ्ट व लॉटरी निकलने के नाम पर लोगों को ई-मेल के जरिये अपनी जाल में फंसाता था। फिर उन्हें कई लाख रुपये मिलने का लालच देकर उनसे तरह-तरह से रकम ऐंठता था। पुलिस ने नाइजीरियन समेत इस गिरोह के चार बदमाशों को गिरफ्तार किया है।

गिरफ्तार आरोपियों में सराय काले खां निवासी शौकत अंसारी, मकसूद आलम, महमूद आलम व नानकपुरा इलाके में रहने वाला नाइजीरियन चाल्र्स ओसारेन खोए जेगडे शामिल हैं। इनके कब्जे से विभिन्न बैंकों के छह एटीएम कार्ड, ब्लैंक चेक, छह सिमकार्ड 74,500 रुपये, 3800 यूएस डॉलर व फर्जीवाड़े से संबंधित कुछ कागजत बरामद किए हैं। नाइजीरियन गिरोह का मास्टर माइंड है।

उत्तरी जिले के डीसीपी सागरप्रीत हुडा ने बताया कि गत 22 जून को गुलाबी बाग निवासी राम रतन व उनकी बेटी कल्पना ने शिकायत की कि गत 30 मई को एक ई-मेल के जरिये साढ़े सात लाख रुपये लॉटरी निकलने के नाम पर एक ई-मेल आया था। दोबारा मेल में लॉटरी की रकम का चेक लेने के लिए 20,056 रुपये जमा कराने की बात कही गई।

कल्पना ने मेल में दिए गए एकाउंट में गत 5 जून को रकम भी जमा करा दी। फिर 17 जून को ब्रायन स्मिथ बनकर नाइजीरियन ने फोन किया कि वह उसका चेक लेकर मुंबई एयरपोर्ट पर पहुंच गया है। उसे चेक के बदले में 65 हजर रुपये कस्टम डच्यूटी के रूप में जमा कराना होगा।

कल्पना ने ब्रायन द्वारा दिए गए एकाउंट में 50 हजर रुपये तत्काल जमा करा दिए। इसके बाद ब्रायन की तरफ से मेल आया कि उसका चेक यूके करेंसी में है। उसे इंडियन करेंसी में करने के लिए सवा लाख रुपये बैंक चार्ज देना होगा। इस पर कल्पना को लगा कि वह फंस रही है।

उसने पिता से बातचीत की। फिर दोनों ने इस संबंध में मामला दर्ज कराया। पुलिस ने पहले शौकत को गिरफ्तार किया। फिर उसकी निशानदेही पर मक सूद, महमूद व नाइजरियन चाल्र्स को गिरफ्तार किया। चारों ने फर्जीवाड़ा करने की बात कबूल ली है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:फर्जीवाड़े में नाइजीरियन समेत चार गिरफ्तार