DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   अपर कास्ट व मुसलिम को रिझाने की कोशिश, जतिवादी पार्टी भाजपा,कांग्रेस है बसपा नहीं

कुंडलीअपर कास्ट व मुसलिम को रिझाने की कोशिश, जतिवादी पार्टी भाजपा,कांग्रेस है बसपा नहीं

लाइव हिन्दुस्तान टीम
Fri, 19 Jun 2009 09:26 PM
अपर कास्ट व मुसलिम को रिझाने की कोशिश, जतिवादी पार्टी भाजपा,कांग्रेस है बसपा नहीं

बसपा सुप्रीमो एवं सूबे की मुख्यमंत्री मायावती ने कहा कि लोकसभा चुनाव के परिणाम भले ही उम्मीद के अनुरूप नहीं रहे,लेकिन प्रदेश में बसपा का वोट प्रतिशत में इजाफा हुआ। परंपरागत दलित वोट बैंक कहीं नहीं बहका,आज भी बसपा के साथ है,आगे भी रहेगा।

उन्होंने कहा कि अपरकास्ट व मुसलिम वोट  के बहक जाने से पार्टी की हार हुई लेकिन आगे वह जतिवादिता की राजनीति को खत्म कर सर्वजन समाज को जोड़ने का काम करेगीं। मायावती शुक्रवार की शाम लगभग पांच बजे पार्टी द्वारा आयोजित जन जगरूकता अभियान जनसभा को संबोधित करने आई थी।

लगभग पौन घंटे के संबोधन में उन्होनें लगभग सौ बार अपरकास्ट का नाम लिया। उन्होंने कांग्रेस,भाजपा व सपा को जतिवादी पार्टी बताते हुए दावा किया कि बसपा ही अब समाज की इस खाई को पाटेगी और प्रदेश ही नहीं देश की सत्ता तक का सफर तय करेगी।

उन्होंने काग्रेंस,भाजपा व सपा को जातिवादी पार्टी बताते हुए कहा कि इन दलों के लोग नहीं चाहते कि दलित का कोई बेटा या बेटी देश की सत्ता पर राज करे। उदाहरण स्वरूप मायावती ने वर्ष 1977 में बाबू जगजीवन राम तथा भारत-अमरिका परमाणु डील के मौके पर खुद अपने साथ हुए छल के बारे में बताया कि अब तक जो हुआ सो हुआ,आगे दलित के साथ सर्वजन समाज के बूते वह केन्द्र की सत्ता तक जरूर पहुंचेगी।

उन्होंने तीनों मुख्य पार्टियों को कोसा और कहा कि मौका व मतलब देख सभी बसपा के खिलाफ एकजुट हो विरोध पर उतर आते हैं। लेकिन अब बसपा ही समाज में फैले जतिवादिता की राजनीति को खत्म कर भाईचारा का संदेश गांव-गांव तक पहुंचाएंगी। तभी मंसूबे कामयाब होंगे।

प्रदेश के पिछड़ेपन के लिए एकबार फिर वो केंन्द्र सरकार को कोसा,और कहा कि बसपा के उप्र में चार बार के शासनकाल में आर्थिक मदद के नाम पर हमेशा अनदेखी की गई। भीड़ को देख उत्साहित मायावती ने पूरे भाषण में अपने वोटर को जगरूक रहने तथा मायूस न होने का पाठ पढ़ाती रही। खासकर दलित समाज को मायूस न होने को कहा।

इससे पहले जनजगरूकता कार्यक्रम में मंच से कई नेताओं ने संबोंधित किया। मंच पर प्रदेश सरकार के तीन मंत्री राजपाल त्यागी,लखीराम नागर,यशवन्त सिंह के अलावा सांसद मुनकाद अली,चार विधायकों समेत जिलाध्यक्ष प्रेमचंद भारती भी मौजूद थे।

घंटाघर रामलीला मैदान में बीते डेढ़ महीने में मुख्यमंत्री मायावती की दूसरी जनसभा है। शुक्रवार की सभा में भी पार्टी समर्थकों का अच्छा खासा सैलाब उमड़ा था जो कि भीषण गर्मी में भी मायावती की एक झलक पाने व सुनने को बेताब था।

संबंधित खबरें