DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

स्वाइन फ्लू: एनसीआर में अधिक संवेदनशील है साइबर सिटी

साइबर सिटी में हजारों एमएनसी कंपनियां व सैकड़ों की तादाद में कॉल सेंटर हैं। बिजनेस के चलते शहरवासियों का विदेश-यात्रा पर जाना और विदेशियों की यहां खूब आवाजाही है। इस लिहाज से स्वास्थ्य अधिकारी भी एनसीआर में स्वाइन फ्लू के लिए सबसे अधिक संवेदनशील गुड़गांव को मान रहे हैं।

गत दो दिनों के दौरान शहर में स्वाइन फ्लू के दो संदिग्धों की पहचान भी की गई है। कॉरपोरेट व इंडस्ट्रियल हब होने के कारण गुड़गांव में स्वाइन फ्लू का खतरा अधिक महसूस किया जा रहा है। जानकारी के मुताबिक साइबर सिटी में करीबन तीन हजार से अधिक एमएनसी कंपनियां हैं। जबकि डेढ़ से दो सौ के करीब कॉल सेंटर व बीपीओ हैं। नतीजतन बिजनेस के चलते यहां से विदेश व विदेश से शहर में लोगों का आना-जाना लगा रहता है।

ऐसे में शहर में इस महामारी का खतरा मंडरा रहा है। गत दो दिनों में स्वाइन फ्लू के दो संदिग्ध मामले प्रकाश में आने से स्वास्थ्य विभाग के आला अधिकारी भी चितिंत हो गए हैं। अब तक गुड़गांव में स्वाइन फ्लू के तीन संदिग्ध मरीजों की पहचान की जा चुकी है।

स्वाइन फ्लू का पहला मामला दस दिन पहले डीएलएफ स्थित एक निजी अस्पताल में प्रकाश में आया था। यह संदिग्ध सेंट फ्रांसिस से गुड़गांव आया था। दूसरा संदिग्ध मामला मंगलवार को सामने आया। इस बार न्यू जर्सी से आई सात वर्षीय बच्ची में इसके लक्षण देखे गए। जबकि 11 जून को नासा से लौटे गुड़गांव डीपीएस स्कूल के 14 वर्षीय बच्चे में भी बुधवार को स्वाइन फ्लू के लक्षण पाए गए।

स्वास्थ्य विभाग की टीम ने सैंपल लेकर एनआईसीडी, दिल्ली भेजा दिया है। हालांकि इनमें से दो संदिग्ध मरीजों की जांच रिपोर्ट नेगेटिव आ चुकी है। जबकि डीपीएस के स्टूडेंट की जांच रिपोर्ट आनी अभी बाकी है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:गुड़गांव में स्वाइन फ्लू का खतरा ज्यादा