अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सात अप्रैल तक पूरी जानकारी देनी होगी हरिनारायण राय को

निगरानी ब्यूरो की टीम ने सरकार के पूर्व मंत्री हरिनारायण राय को सात अप्रैल तक की मोहलत दे दी। श्री राय को पूछताछ के लिए निगरानी के अधिकारियों ने बुलाया था। आय से अधिक संपत्ति अर्जित करने के आरोपी हरिनारायण राय निगरानी को बहुत कुछ बता नहीं पाये। बार-बार पसीना पोंछ रहे श्री राय से जब पूछा गया कि एकाउंट में 25 लाख रुपया एक दिन में कहां से आया, जवाब था याद नहीं। आपने 35 लाख का भुगतान किसे किया है, यह भी उन्हें याद नहीं। महामाया कंस्ट्रक्शन और मां गौरी कंस्ट्रक्शन को कितने का ठेका मिला, कितने की आमदनी हुई और कहां खर्च हुआ, इस पर भी वे बहुत कुछ नहीं बता पाये। उन्होंने इसके लिए 10 दिन का समय लिया। लिहाजा उन्हें सात अप्रैल तक पूरी सूचना देने को कहा गया है। निगरानी के आइजी एमवी राव, डीआइजी विनय कुमार पांडेय, एसपी उमेश कुमार सिंह, एएसपी भोलानाथ सरकार ने पूछताछ की। श्री राय को एक परफार्मा भी दिया गया, जिसमें संपत्तियों का ब्यौरा अगली बार भर कर लाना है। श्री राय ने निगरानी के अधिकारियों को आश्वस्त किया कि वे अनुसंधान में पूरा सहयोग करंगे।महामाया, मां गौरी और एक्का को कितने का मिला ठेका : निगरानी के अधिकारियों ने सरकार के सभी विभागों को पत्र लिख कर महामाया कंस्ट्रक्शन, मां गौरी कंस्ट्रक्शन और एक्का कंस्ट्रक्शन को कितने का ठेका मिला और राज्य बनने के बाद कितने का भुगतान कर दिया गया है, इसकी विस्तृत जानकारी मांगी है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: सात अप्रैल तक पूरी जानकारी देनी होगी हरिनारायण राय को