DA Image
28 मई, 2020|9:55|IST

अगली स्टोरी

हिमालय ग्लेशियर का पिघलना दक्षिण एशिया के लिए हो सकता है खतरनाक

हिमालय ग्लेशियर का पिघलना दक्षिण एशिया के लिए हो सकता है खतरनाक

अमेरिका के प्रभावशाली सिनेटर जान केरी ने कहा है कि आतंकवाद से जूझ रहे दक्षिण एशिया में लगातार हिमालयन ग्लेशियर पिघल रहा है और विश्व समुदाय के नेता इसपर कोई कदम नहीं उठा रहे।

जलवायु परिवर्तन पर दिए अपने भाषण में सिनेट के विदेशी संबंध समिति के अध्यक्ष केरी ने चेतावनी देते हुए कहा कि चीन से अफगानिस्तान तक के करोडों लोगों को पानी देने वाले हिमालय ग्लेशियर 2035 तक विलुप्त हो सकते हैं अत: इस पर विचार की जरूरत है।

केरी ने कहा कि हिमालय से पानी बह कर भारत और पाकिस्तान से जाता है। भारत की नदियां न सिर्फ उसके कृषी के लिए उपयुक्त हैं बल्कि धार्मिक तौर पर भी उनका महत्व है। वहीं पाकिस्तान पूरी तरह से सूखे से बचने के लिए सिंचाई पर निर्भर है।

केरी ने दुनिया भर में कुछ जगहों पर हो रहे गंभीर मौसम परिवर्तन को विश्व के लिए खतरनाक बताते हुए कहा कि दक्षिण एशिया में आतंक और जलवायु परिवर्तन जैसे खतरे का गठजोड़ हो गया है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:हिमालय का पिघलना दक्षिण एशिया के लिए खतरनाक