अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मतदाता रजिस्टर का सख्ती से हो पालन

चुनाव आयोग ने फर्जी मतदान को रोकने के लिए मतदाता रजिस्टर(फार्म-17) का सख्ती से अनुपालन करने की हिदायत दी है। साथ ही सभी जिला निर्वाचन पदाधिकारियों को मतदान सामग्रियों के लिए कलेक्शन सेंटर की मुकम्मल व्यवस्था का भी निर्देश दिया है। जहां से मतदान के दिन पीठासीन पदाधिकारियों की डायरी, विजिट सीट, पेट्रोलिंग, सेक्टर और जोनल मजिस्टट्र की डायरी, बूथों पर इस्तेमाल होने वाले डिजिटल कैमर और जिला नियंत्रण कक्ष की शिकायत पुस्तिका रिसीव की जाएगी। आयोग ने इस बाबत राज्य के मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी को दिशा-निर्देश जारी किया है।ड्ढr ड्ढr वोटरों को वोट देने की अनुमति देने से पहले किन-किन नियमों का पालन करना है इस बाबत भी आयोग ने स्पष्ट दिशा-निर्देश जारी किया है। आयोग ने कहा है कि मतदाता रजिस्टर में मतदाता सूची की संख्या, मतदाताओं के हस्ताक्षर या अंगूठे का निशान लेना भी आवश्यक होगा। खासतौर पर यह कहा गया है कि मतदाता के सिर्फ बाएं हाथ के अंगूठे का ही निशान लिया जाएगा। जब तक वोटर रजिस्टर पर हस्ताक्षर या अंगूठे का निशान नहीं लगाते तब तक उन्हें वोट देने की अनुमति नहीं होगी। इसके अलावा मतदाताओं के फोटो पहचान पत्र का नंबर या दूसर दस्तावेजों का ब्योरा भी रजिस्टर में दर्ज करना होगा जिसके आधार पर उन्हें वोट देने की अनुमति दी जाएगी। आयोग ने कहा है कि मतदाता रजिस्टर की स्क्रूटिनी की जाएगी और पीठासीन पदाधिकारियों को यह सुनिश्चित करना होगा कि सेकेण्ड पोलिंग ऑफिसर ने मतदाता रजिस्टर में संबंधित ब्योरों को सही ढंग से भरा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: मतदाता रजिस्टर का सख्ती से हो पालन