अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

चुराता था कैश, करता था ऐश

नाम- विकास कुमार उर्फ छोटू। ठिकाना शास्त्रीनगर थाना क्षेत्र स्थित शिवपुरी मुहल्ला। दिखने में चॉकलेटी टीनएजर। कैश चुराना और चोरी के पैसे पर ऐश करना उसकी फितरत है। जिसने विश्वास किया उसी को दगा दिया। शातिर दिमाग ऐसा कि घटना को अंजाम देने के बाद मामले को दूसरा रंग देने की मुकम्मल व्यवस्था करता है। फ्रजर रोड स्थित विशाल मेगा मार्ट (पांडेय मॉल) से हजार नकद चोरी के 24 घंटे के अंदर कोतवाली थाने की पुलिस ने घर से विकास को गिरफ्तार करने के बाद इन बातों का खुलासा मंगलवार को किया। छापेमारी के दौरान चोरी के 82 हजार सात सौ नकद भी पुलिस ने बरामद कर लिये। पूछताछ के दौरान विकास ने बताया कि रइसों की तरह जिंदगी जीने की खातिर उसने चोरी शुरू की। फैशनेबुल व कीमती कपड़े, बेल्ट, जूता, घड़ी, साइकिल आदि खरीदने के लिए उसने मार्ट में हाथ साफ किया।ड्ढr ड्ढr इस घटना को उसने जिंदगी का पहला अपराध बताया हालांकि पुलिस इस बयान की सत्यता परख रही है। चोरी के अगले ही दिन उसने 13 हजार रुपये की मार्केटिंग कर ली। विकास के पिता की मौत पहले ही हो चुकी है जबकि दो भाई लोहा व दवा दुकान में काम करते हैं। डीएसपी (विधि-व्यवस्था) शैलेश कुमार सिन्हा ने बताया कि मेगा मार्ट वाले भवन में स्थित एक प्राइवेट मेंटिनेंस एंड इंजीनियरिंग कंपनी में विकास काम करता है। वह मार्ट में भी काम के सिलसिले में आता था। इसी दौरान उसे विश्वासी समझ मार्ट के संचालक आलोक श्रीवास्तव ने मार्ट खोलने और बंद करने का काम उसे सौंप दिया। रविवार को साफ-सफाई के लिए खोलने के बाद जब मजदूर चले गये तो विकास ने तिजोरी का ताला तोड़ दिया और नकद लेकर भाग निकला। किसी को चोरी का शक नहीं हो इसके लिए उसने कुछ रसीद व अन्य कागजातों को तिजोरी के समीप इकट्ठा कर आग लगा दी थी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: चुराता था कैश, करता था ऐश