DA Image
26 फरवरी, 2020|10:07|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मीडिया पर बंधन डालने के खिलाफ है सरकार

मीडिया पर बंधन डालने के खिलाफ है सरकार

मीडिया की स्वतंत्रता पर लगातार उठ रही उंगलियों के बीच सरकार ने कहा कि राष्ट्रीय सुरक्षा के मुद्दे पर मीडिया की स्वतंत्रता को लेकर बहस होनी चाहिए, लेकिन प्रेस पर किसी भी तरह के बंधन लगाने के कदम का स्वागत नहीं किया जाएगा।

संसदीय कार्य मंत्री पवन कुमार बंसल ने मीडिया रेस्पांस टू नेशनल सिक्योरिटी विषय पर आयोजित एक सेमिनार में कहा कि मीडिया ने मुंबई हमले के दौरान अहम भूमिका निभाई और यहां तक कि पाकिस्तान को यह मानने पर मजबूर कर दिया कि कसाब उनके देश का नागरिक है, लेकिन मीडिया के लगातार कवरेज ने आतंकियों को अपनी रणनीति बनाने में भी मदद की। इसलिए यह प्रश्न उठता है कि ऐसी घटनाओं में मीडिया की जिम्मेदारी क्या हो।

बंसल ने कहा कि इस मुद्दे पर राष्ट्रीय बहस होनी चाहिए, लेकिन इस के साथ ही उन्होंने कहा मीडिया पर बेड़ियां डालने संबंधी किसी भी कदम का स्वागत नहीं होगा। उन्होंने कहा मीडिया के बिना लोकतंत्र जीवित नहीं रह सकता। सेमिनार का आयोजन ऑल इंडिया न्यूजपेपर एडिटर्स कांफ्रेंस एंड फेडरेशन ऑफ लेजिस्लेचर्स ऑफ इंडिया ने किया था।

सेमिनार में कई वरिष्ठ पत्रकारों, सुरक्षा विशेषज्ञों और पूर्व नौकरशाहों ने हिस्सा लिया। इस दौरान पूर्व गह सचिव के पदमनाभैय्या ने इलेक्ट्रॉनिक मीडिया से कहा कि वह संवेदनशील मुद्दों को प्रस्तुत करने के दौरान ज्यादा सावधानी बरते।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:मीडिया पर बंधन डालने के खिलाफ है सरकार