DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एमसीडी में सात सौ तबादले किए गए

एमसीडी के सफाई व इंजीनियरिंग विभाग में सात सौ तबादले किए गए हैं। लंबे समय से सफाई विभाग में मलाईदार पदों पर बैठे 480 कर्मचारियों का तबादला किया गया है जबकि इंजीनियरिंग विभाग में दो सौ ज्यादा एई व जेई को भी बदल दिया गया है। हालाकि इसमें नए जेई की तैनाती भी शामिल है।


मेयर के ओएसडी रविदीप चाहर तक को बदल दिया गया है और उनकी जगह एडीसी मुख्यालय राजेश प्रकाश को अतिरिक्त चार्ज दिया गया है। मेयर के निजी सचिव एस.एस.सहगल का कार्यकाल छह महीने के लिए बढ़ा दिया गया है। प्रतिनियुक्ति पर तैनात सतर्कता विभाग के निदेशक यू.बी.त्रिपाठी का कार्यकाल भी एक साल के लिए बढ़ा दिया गया है।
एमसीडी में सफाई व इंजीनियरिंग विभाग में तैनाती की कहानी किसी से छिपी नहीं है। बिल्डिंग  विभाग एमसीडी का सबसे बदनाम विभाग है और इसमें तैनाती के लिए इंजीनियर हर तरह की पैरवी करते रहे हैं। पिछले दिनों 65 तबादले किए गए थे जिसमें पांच अधीक्षण अभियंता, 27 अधिशासी अभियंता, दो एई व 32 जेई थे। इनमें अधिकांश के खिलाफ नियमित विभागीय कार्यवाही चल रही है और दागी समङो जाते हैं। भ्रष्टाचार रोकने के लिए निगमायुक्त ने यह कदम उठाया है। अब फिर से  दो सौ से ज्यादा इंजीनियरों का तबादला किया गया है।  इसमें 66 एई व 73 जेई हैं। हाल में 138 इंजीनियर एसएसएसबी से चुनकर आए हैं। इसमें 68 की बतौर जेई बिल्डिंग विभाग में तैनाती की गई है।
सफाई विभाग के भ्रष्टाचार व नाकारापन की कहानी भी जगजाहिर है। पिछले 20-25 सालों से एक ही जगह मलाईदार पदों पर तैनात कर्मचारियों को इस बार हटा दिया गया है। पहली बार निगम ने सख्त कदम उठाते हुए 480 का तबादला कर दिया है। इसमें 31 सफाई निरीक्षक,, 171 सहायक सफाई निरीक्षक व 278 सफाई गाइड हैं। तबादलों को लेकर निगम में हड़कंप है और तबादला रूकवाने के लिए एड़ी चोटी का जोर लगा रहे हैं। नेताओं की हालत तबादलों को लेकर खासी पतली है। उनके लिए यह फैसला न निगलते बन रहा है और न उगलते। समझा जाता  है कि पिछले दिनों मुख्यमंत्री शीलादीक्षित ने निगम नेताओं को बुलाकर निगम की हालत में सुधारने के निर्देश दिए थे। इसी कड़ी में यह कवायद की जा रही है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:एमसीडी में सात सौ तबादले किए गए