DA Image
9 अप्रैल, 2020|7:31|IST

अगली स्टोरी

दो टूक

याद कीजिए वो दिन जब गौरा देवी और उनके साथियों ने पेड़ बचाने के लिए चिपको आंदोलन की शुरुआत की थी। याद कीजिए जब गंगा और नर्मदा बचाने की मुहिम शुरू हुई थी। हममें से कितने लोग उन आंदोलनों को गंभीरता से लेते थे?

कोई किसी की सनक बताता था तो कोई किसी को विकास विरोधी। वो दिन है और आज का दिन.. पर्यावरण देखते-देखते एक बड़ा मुद्दा बन चुका है। जिंदगी का मुद्दा।

वीरेन्द्र वत्स की चंद लाइनें इस बात की तस्दीक करती हैं- ये क्या दयार जहाँ फूल है न खुशबू है/ कदम-कदम पे फक़त पत्थरों का जदू है/ भरा है काला धुआँ आसमान की हद तक/ अजीब खौफे कयामत जहाँ में हर सू है/ ये आदमी की तरक्की की इंतिहा तो नहीं/ जमीं बदलने लगी बार-बार पहलू है / हम तुम्हारे हैं गुनहगार ऐ नई नस्लो/ नहीं जुनूने तबाही पे खुद का काबू है।