अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

तैमूर नगर में हुई हत्या की गुत्थी सुलझी

तैमूर नगर  में हुई संदीप की हत्या की गुत्थी पुलिस ने सुलझ लेने का दावा किया है। जांच से पता चला है कि हत्या मोबाइल लूटने के लिए की गई थी। हत्याकांड को सुलझने में मददगार बना बीट हवलदार के मोबाइल में मौजूद क्रिमिनल रिकार्ड और फोटो। घायल युवक ने मोबाइल में मौजूद आरोपी जितेन्द्र की फोटो पहचानी, जिसके बाद पुलिस ने जितेन्द्र (22), राजकुमार (21) और सलीम (22) को गिरफ्तार कर लिया।

पुलिस उपायुक्त शालिनी सिंह के अनुसार 29 मई की देर रात तैमूर नगर इलाके में दो युवकों को चाकू मारा गया था। दोनों को एम्स के ट्रामा सेंटर ले जाया गया, जहां संदीप को मृत घोषित कर दिया गया और घायल संजय (20) का उपचार किया जा रहा है। संजय न्यू फ्रेंडस कॉलोनी में घरेलू नौकर का काम करने वाले संदीप से मिलने के लिए गया था। तैमूर नगर से मोबाइल रिचार्ज कराने के बाद जब दोनों लौट रहे थे, तो उन्हें चार युवकों ने रोका। उनमें से एक ने संदीप से मोबाइल मांगा, उसने इंकार किया तो उन्होंने संदीप की छाती पर चाकू मार दिया। संजय ने उसे बचाने का प्रयास किया तो उन्होंने उसे भी चाकू मारकर घायल कर दिया था।

इस बाबत एसीपी गुरचरण दास की देखरेख में थानाध्यक्ष ब्रिजेन्द्र सिंह, इंस्पेक्टर एस.के शर्मा की टीम ने छानबीन शुरू की। छानबीन में हवलदार विनेश ने घायल संजय द्वारा बताए गए हुलिये के आधार पर अपने मोबाइल में मौजूद जितेन्द्र की फोटो उसे दिखाई। संजय ने उसे बताया कि जितेन्द्र ने ही उन पर हमला किया था। जब उसके घर छापा मारा गया तो वह फरार था। एक सूचना पर पुलिस ने जितेन्द्र को शनिवार रात खिजराबाद से धर लिया। उसकी निशानदेही पर सलीम और राजकुमार को भी पुलिस ने धर दबोचा। पुलिस अब इनके एक फरार साथी को तलाश रही है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मोबाइल में था फोटो धरा गया बदमाश