अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

रिटर्न का वायदा

पिछले कुछ दिनों में बाजर में सुधार देखने को मिला है। सेंसेक्स बेहतर हुआ है। पर फिर भी ऐसा नहीं कहा जा सकता कि सारी मुश्किलें टल चुकी हैं। आज भी कई लोग निवेश संबंधी फैसले लेने से कतरा रहे हैं। इंश्योरेंस ऐसा क्षेत्र है जहां कंपनियों के साथ ग्राहक भी नए विकल्पों की तलाश कर रहे हैं। बाजर में जोखिम लेने से बचते लोगों को रिटर्न का भरोसा दिलाना कंपनियों की प्राथमिकता है। 

उत्पाद की प्रकृति : गारंटी देने वाला उत्पाद वह है जो निवेश पर निश्चित अनुपात का रिटर्न देने का वायदा करता है। इस तरह की स्कीमें कुछ समय पहले बाजर में खासी प्रचलित थीं। उस समय निवेशक, निश्चित रिटर्न के लिए इन में निवेश करता था। उदाहरण के तौर पर यदि कोई स्कीम 15 वर्ष के अंतराल पर 6.5 प्रतिशत के रिटर्न का वायदा करती है तो उसे गारंटेड रिटर्न कैटेगरी में रखा जाएगा। इससे उसे मूलधन के साथ एक निश्चित राशि भी मिल जाती है।

विकल्प
इस तरह की पॉलिसी में सिंगल निवेश विकल्प या सिंगल प्रीमियम ही होता है। इसका मतलब यह हुआ कि निवेशक को ताउम्र पॉलिसी का लगातार पेमेंट नहीं करना होता। वह कुछ अमाउंट देकर सिंगल इन्वेस्टमेंट कर सकते हैं। साथ ही इस तरीके से वह इस बात के प्रति पूरी तरह आश्वस्त हो जते हैं कि वह स्कीम में किए गए वायदों का पूरा लाभ उठा सकने में सक्षम होंगे।

गौर करें 
- बाजार में यूनिट लिंक्ड पॉलिसी है। इसमें आपको निवेश किए गए अमाउंट के आधार पर गारंटी दी जाती है।

-गारंटेड रिटर्न देने वाली स्कीम में निवेशक में सबसे बड़ा फायदा होता है कि उसे इस बात की जानकारी होती है कि अमुक समय में उसे एक निश्चित राशि वापस मिल जाएगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:रिटर्न का वायदा