DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बंपर पैदावार होने से कृषि विभाग खुश

इस साल गेहूं की बंपर पैदावार ने पिछले सारे रिकार्ड ध्वस्त कर दिए हैं। हालत यह है कि सरकारी क्रय केंद्रों पर लक्ष्य से चार गुणा खरीद हो चुकी है। गन्ने से किसानों का मोह भंग होने के कारण गेहूं की पैदावार बढ़ने से कृषि विभाग खासा खुश है। शासन ने भी गेहूं खरीद की मियाद 30 जून तक बढ़ा दी है।

शासन ने गेहूं की सरकारी खरीद करने के लिए 26 क्रय केंद्र बनाए थे। मगर इस साल गेहूं की अच्छी फसल होने के कारण यह सरकारी केंद्र भी कम पड़ गए हैं। गेहूं खरीदने वाली एजेंसियों यूपी एग्रो, पीसीएफ, एफसीआई खाद्य विभाग को 5000 मीट्रिक टन गेहूं खरीदने का लक्ष्य मिला था। किसानों ने क्रय केंद्रों पर भारी मात्रा में गेहूं पहुंचा दिया तो खरीद के सारे पुराने रिकार्ड ध्वस्त हो गए।हालत यह है कि सरकारी मशीनरी के पास खरीदे हुए गेहूं को रखने के लिए जगह ही नहीं है।

वरिष्ठ विपणन निरीक्षक हरिमोहन सिंघल ने बताया कि यूपी एग्रो, पीसीएफ और खाद्य विभाग ने मिलकर 9700 मीट्रिक टन गेहूं की खरीद की है। जबकि अकेले एफसीआई ने ही 9800 मीट्रिक टन गेहूं खरीद लिया है। यही कारण है कि शासन ने गेहूं खरीद की मियाद भी 30 जून तक बढ़ा दी है। इससे पहले गेहूं खरीद की आखिरी तारीख 15 मई की गई थी। इसके बाद फिर 29 मई तक गेहूं खरीद बंद करने की योजना बनी। पर गेहूं लगातार आते जने पर शासन ने अंतिम तिथि बढ़ाने का फैसला किया। बंपर फसल देखकर कृषि विभाग भी खासा खुश है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:लक्ष्य से चार गुणा हुई गेहूं की खरीद