DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मेलबर्न में भारतीय छात्रों का शांति मार्च

मेलबर्न में भारतीय छात्रों का शांति मार्च

ऑस्ट्रेलिया में भारतीय छात्रों पर हो रहे हमलों के विरोध में रविवार को हजारों छात्रों ने मेलबर्न में शांति मार्च में हिस्सा लिया। बड़ी संख्या में भारतीय छात्र मेलबर्न स्थित विक्टोरिया प्रांत की संसद के बाहर इकट्ठा हुए।

भारतीय छात्रों ने हमले के विरोध में आस्ट्रेलियाई सरकार के खिलाफ नारेबाजी की। रैली में छात्रों के अलावा बड़ी संख्या में भारतीय समुदाय के लोगों ने भी हिस्सा लिया। रैली का आयोजन ‘आस्ट्रेलियाई भारतीय छात्र महासंघ’ (एफआईएसए) ने मेलबर्न यूनिवर्सिटी ग्रेजुएट स्टूडेंट एसोसिएशन के सहयोग से किया।

ग्रेजुएट स्टूडेंट एसोसिएशन के अध्यक्ष पाउल कोट्स ने कहा कि आस्ट्रेलिया सरकार को भारतीय छात्रों की तत्काल सुरक्षा मुहैया कराना चाहिए। एफआईएसए ने रैली आयोजित करने का निर्णय शनिवार को लिया था। इससे पहले शुक्रवार भारतीय प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने आस्ट्रेलियाई प्रधानमंत्री केविन रूड से बात की थी और उनसे आस्ट्रेलिया में भारतीयों की सुरक्षा के लिए सभी आवश्यक कदम उठाने की अपील की थी।

एफआईएसए ने कहा शनिवार को कहा था कि रैली की शुरुआत रविवार सुबह रॉयल मेलबर्न अस्पताल से होगी और विक्टोरिया के संसद भवन जाकर समाप्त होगी। अंत में रैली में शामिल सभी लोग मोमबत्ती जलाएंगे।

एफआईएसए द्वारा जारी बयान में कहा गया है कि रैली का उदेश्य भारतीयों के खिलाफ हो रही हिंसा के प्रति लोगों को जागरुक करना है। संगठन ने आस्ट्रेलियाई नागरिकों से भी समर्थन की अपील की है।

पिछले दिनों मेलबर्न में भारतीय छात्रों को निशाना बनाकर हमला किया गया था, जिसमें चार भारतीय छात्र घायल हो गए थे। भारतीय छात्र श्रवण कुमार को हमले में गंभीर चोट लगी, वह अब कोमा से बाहर आ गया है। एक अन्य छात्र बलजिंदर सिंह पर भी चाकू से हमला किया गया और वह भी अस्पताल में भर्ती हैं। उल्लेखनीय है कि आस्ट्रेलिया में 80,000 से अधिक भारतीय छात्र रहते हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मेलबर्न में भारतीय छात्रों का शांति मार्च