DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जजर्र आवास में असुरक्षित महिला अधिकारी

बूटी रोड स्थित सरकार आवास (डी-7) में एक महिला अधिकारी पिछले चार साल से भवन निर्माण प्रमंडल-एक से परेशान है। परेशानी का सबब यह है कि वह अकेली रहती है और बगैर चहारदिवारी के इस सरकारी आवास का दरवाज, खिड़की, लैट्रिन टैंक सभी टुटा-फूटा है। इस संबंध में उस अधिकारी द्वारा वर्ष 2005 से ही कार्यपालक अभियंता से आवास की मरम्मति कराने का लगातार आग्रह किया जता रहा है।

जनकारी के अनुसार आवास की मरम्मति का नवंबर 2007 और अप्रैल 2008 में टेंडर भी निकला। उसके बाद ठेकेदार ने चहारदिवारी निर्माण का काम प्रारंभ किया। सेप्टिक टैंक  और शॉकपीट भी बनाया। लेकिन बीच में उसे अधूरा छोड़ दिया गया। अब न तो चहारदिवारी निर्माण का काम पूरा किया जा रहा है और न ही मरम्मति के दूसरे काम पूरे किये जा रहे हैं।

पूछने पर काम करानेवाले ठेकेदार का कहना है कि उसे कार्यादेश ही नहीं मिला है। दिलचस्प स्थिति यह है कि बगैर कार्यादेश के काम कैसे शुरू कर दिया गया। उस महिला अधिकारी की दुखद स्थिति यह है कि असुरक्षित आवास में रात काटना मुश्किल हो रहा है। उधर गड़बड़ करनेवाले प्रमंडल के अभियंता पूरी चैन की नींद सो रहे हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:जजर्र आवास में असुरक्षित महिला अधिकारी