DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

प्लास्टिक सर्जरी से ठीक हो सकतीं पलकें

बड़ी आंखें खूबसूरत दिखती हैं। लोग तारीफ भी करते हैं। कुछ लोगों की आंखें अधिक उभरी रहती हैं। इन आंखों की रक्षा पलकें करती हैं। लेकिन बड़ी आंख के साथ पलकों का तिरछा या छोटा होना खतर की निशानी है। पलकों की खराबी को प्लास्टिक सर्जरी के माध्यम से ठीक किया जा सकता है। आईजीआईएमएस में रविवार को आयोजित नेत्र रोग विशेषज्ञों के सीएमई कार्यक्रम में अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान के आरपी सेंटर की असिस्टेंट प्रोफेसर डा.भावना चावला ने बताया कि पलकों में खराबी चोट लगने, आग या तेजाब के जलने से हो सकती है।ड्ढr ड्ढr पलकों के छोटा होने या पूरी तरह से बन्द नहीं होने का सीधा असर आंख के कार्निया पर होता है। पलकों के झपकने से सुरक्षा और सफाई का काम होते रहता है। आंख पूरी तरह से बन्द नहीं होने से संक्रमण का भी खतरा रहता है। इससे अल्सर हो सकता है। जिन मरीजों में ऐसी परशानी हो तो स्किन ग्राफ्िंटग कर पलकों को ठीक कर दिया जाता है। यहां के उत्तकों को भरने के लिए कान के पीछे या बांह के अन्दर के भाग से त्वचा का टुकड़ा निकाल कर पलकें बना दी जाती हैं।ड्ढr ड्ढr आंख के पर्दे (रटिना) का इलाज अब दवाओं से भी संभव हो गया है। अब ऐसी दवाएं आ गयी हैं जिनसे न सिर्फ आंख की रोशनी में हो रहे गिरावट को रोका जा सकता बल्कि रोशनी में सुधार भी होता है। रटिना सर्जन डा.सलभ सिन्हा ने बताया कि मधुमेह, उच्च रक्तचाप रोगियों के साथ और बुजुर्ग लोगों में रटिना (आंख के पर्दे) खराब होने की शिकायत पायी जाती है। पहले रटिना खराब होने एकमात्र इलाज लेजर सर्जरी था। अत्याधुनिक दवाओं से आंख की रोशनी को बचायी जा सकता है। इस मौके पर डा.भावना चावला बताया कि आंख में संक्रमण आदि से ट्यूमर का खतरा रहता है। इस प्रकार के ट्यूमर की सिटी स्कैन जांच और बायोप्सी कराने की आवश्यकता होती है। आंख में होनेवाले ट्यूमर का इलाज संभव है।ड्ढr ड्ढr सीएमई के तीनों सत्रों की अध्यक्षता बीओएस के सचिव डा.सुभाष प्रसाद के अलावा डा.प्रणव रंजन ने किया। सीएमई के संयोजक डा.सुनील कुमार सिंह ने बताया कि सीएमई के सभी विषय ज्ञानवर्धक थे। ऐसे मरीजों को इलाज के लिए दिल्ली जाना पड़ता है। इसका उद्घाटन आईजीआईएमएस के निदेशक डा.अरुण कुमार ने किया।कार्यक्रम का आयोजन बीओएस की सामुदायिक चिकित्सा इकाई और पटना ऑफ्थेल्मिक क्लब द्वारा किया गया है। इसमें आईजीआईएमएस के पूर्व एसोसिएट प्रोफेसर डा.नागेद्र प्रसाद सहित अन्य विशेषज्ञों ने भाग लिया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: प्लास्टिक सर्जरी से ठीक हो सकतीं पलकें