DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नरेगा के कार्य शुरू न होने से नाराज थे जनप्रतिनिधि

बल्दीराय ब्लॉक के बीडीओ व कर्मचारियों को बंधक बनाने के आरोप में सपा के एमएलसी शलेन्द्र प्रताप सिंह समेत दजर्नों पंचायत प्रतिनिधियों के खिलाफ दलित उत्पीड़न का मुकदमा दर्ज किया गया है। एमएलसी, प्रमुख प्रतिनिधि व बीडीसी सदस्यों ने नरेगा के कार्य शुरू न होने पर ऐतराज जताते हुए बीडीओ को डेढ़ घंटे उन्हीं के दफ्तर में बंधक बनाया था।

शनिवार को सपा एमएलसी शलेन्द्र सिंह व प्रमुख प्रतिनिधि रवीन्द्र प्रताप सिंह बीडीसी सदस्यों और प्रधानों के साथ क्षेत्र पंचायत की बैठक कर रहे थे। बैठक में नरेगा योजना के 2007-08 के स्वीकृत कार्य अधूरे होने व 2008-09 के कार्य शुरू न होने पर कड़ा ऐतराज जताया गया। इसके लिए बीडीओ को दोषी मानकर सभी लोग उनके कार्यालय चले गए। वहाँ  दलित खण्ड विकास अधिकारी शिव प्रसाद समेत कर्मचारियों को डेढ़ घंटे तक कमरे में ताला लगाकर बंधक बनाए रखा। सूचना मिलने पर डीएम-एसपी समेत अन्य अधिकारी ब्लॉक मुख्यालय पहुँच गए।

हालाँकि परियोजना निदेशक, एसडीएम व सीओ से वार्ता करने के बाद ही वे लोग माने। बाद में विकास कर्मियों की तहरीर पर एमएलसी समेत कई अन्य पर बन्धक बनाने का मुकदमा दर्ज किया गया है।  इस दौरान मीडिया को थाने में नहीं जने दिया। पुलिस अधीक्षक ने कहा कि एमएलसी समेत अन्य पर मुकदमा दर्ज किया गया है। उधर एमएलसी शलेन्द्र सिंह ने कहा कि जनहित के मुद्दे पर यदि जेल भी जना पड़े तो वे तैयार हैं। भ्रष्ट अधिकारियों के खिलाफ उनका आन्दोलन जरी रहेगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बीडीओ को बन्धक बनाने पर एमएलसी पर मुकदमा