DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

राज्य सरकार को सालाना 900 करोड़ रुपए की अतिरिक्त आय की उम्मीद

राज्य सरकार ने आय बढ़ाने के लिए कई वस्तुओं पर ‘वैट’ के अलावा आधा फीसदी से लेकर एक फीसदी अतिरिक्त कर लगाने का निर्णय लिया है। वैट अधिनियम की अनुसूची दो और पाँच में घोषित करीब दो सौ आइटमों पर अतिरिक्त कर लगाए जाने से राज्य सरकार को करीब 900 करोड़ रुपए की अतिरिक्त आय होने की उम्मीद है।

दूसरी ओर सरकार ने फ्रिज, ए.सी. और उसके प्लांट, टी.वी., कप्यूटर, लैपटाप, सभी प्रकार के केबल, मार्बल स्टोन और टाईल्स सभी प्रकार के वुडेन टिम्बर और दस लाख से ऊपर की मशीनरी और पार्ट्स से लगने वाला पाँच फीसदी ‘प्रवेश कर’ समाप्त कर दिया है। इनमें से जो आइटम अनुसूची दो और पाँच की श्रेणी में आते हैं, उन पर वैट के अलावा आधा या एक फीसदी अतिरिक्त कर लगेगा।

कर निबंधन विभाग की अधिसूचना के अनुसार अनुसूची - दो की घोषित जिन वस्तुओं पर चार फीसदी वैट लागू है, उन पर आधा फीसदी ‘अतिरिक्त कर’ लगेगा। इसी तरह अनुसूची -पाँच में अवर्गीकृत वस्तुओं पर अभी 12.5 फीसदी वट लगता है अब उन पर एक फीसदी अतिरिक्त कर लगेगा।

 गौरतलब है कि जब ‘बिक्री कर अधिनियम’ लागू था तब इन वस्तुओं पर एक फीसदी विकास कर लागू था। वैट अधिनियम लागू होने पर इन वस्तुओं पर से विकास कर खत्म हो गया था। अब एक फीसदी अतिरिक्त कर लगाया गया है। अनुसूची-एक की वस्तुओं जैसे कि दाल, सर्राफा, नग आदि पर एक फीसदी वैट तो है लेकिन उन पर अतिरिक्त कर नहीं लगेगा। इसी तरह अनुसूची- चार जैसे कि गेहूँ, चावल, आयरन स्टील, कोयला आदि नान वैट वस्तुओं पर ‘अतिरिक्त कर’ नहीं लगेगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:एक जून से वैट के अलावा ‘अतिरिक्त कर’ लगेगा