अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मृतक का मोबाइल कुख्यात रंभू के पास मिला

नगर थाना क्षेत्र से चौबीस मई को अपहृत छात्र जितेन्द्र कुमार की अपराधियों ने हत्या कर दी है। पुलिस ने शनिवार को जितेन्द्र का शव गोपालपुर थाने के शिवाघाट पुल के समीप से बरामद किया है। उधर, इस मामले में पुलिस ने शुक्रवार की देर शाम मंडलकारा में छापा मारकर जितेन्द्र के मोबाइल फोन के साथ-साथ चार अन्य मोबाइल फोन जब्त किये हैं। मंडलकारागार में बंद कुख्यातों की निशानदेही पर घटना में शामिल नौ लोगों को गिरफ्तार किया गया। यहां से एक देसी कट्टा भी बरामद किया गया।

पुलिस अधीक्षक केएस अनुपम ने बताया कि जितेन्द्र को अपराधियों द्वारा नींद की दवा ज्यादा मात्रा में देने से उसकी मौत हो गई। उन्होंने बताया कि मंडलकारा में बंद रंभू राम, गोरख ठाकुर व संजीव मिश्रा उर्फ पुट्ट मिश्रा ने अपहरण की साजिश रची थी। एसपी ने बताया कि रंभू राम के पास से जितेन्द्र का मोबाइल बरामद हुआ है। रंभू ने ही खुलासा किया कि जितेन्द्र की मौत उसके अपहरण वाले दिन हो गई थी। उसके बाद शव को शिवाघाट के समीप सिकरहना नदी के किनारे फेंक दिया गया था। जितेन्द्र बगहा पुलिस जिले के पोखरभिन्डा का निवासी है। उसके पिता सिंचाई विभाग में क्लर्क के पद पर कार्यरत थे।

एसपी ने बताया कि शिकारपुर थाने के प्रकाशनगर से पकड़ा गया शंभू राम रंभू राम का भाई है। इसके अलावा गोईटी बगहा के अशोक यादव, नारायणपुर घाट के जितेंद्र सहनी, मंशा टोला बेतिया के अराफात आलम, बारी टोला के दुर्गा कुमार, लालगढ़ के नौशान आलम, गोपालपुर नरकटिया के महेश महतो व हरिनारायण चौधरी एवं सुगौली थाना (पूर्वी चम्पारण) के अमिरखो टोला डाकबंगला के शेख फिरोज को भी पकड़ा गया है। इनमें शेख फिरोज के पास से एक देशी पिस्तौल तथा अन्य अपराधियों के पास से 6 मोबाइल फोन बरामद किए गए हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:अपहृत छात्र की हत्या, नदी किनारे मिला शव