अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

1 जून से पिपराकोठी में डिजस्टर मैनेजमेंट की ट्रेनिंग

बाढ़ में फंसे लोगों की जन-माल की सुरक्षा के लिए एसएसबी के एक सौ जवान ट्रेंड किये जाएंगे। इसके लिए भारत-नेपाल बॉर्डर के विभिन्न स्थानों पर तैनात जवानों में से राहत कार्य में लगाये जने वाले जवानों का चयन कर लिया गया है। यह जानकारी पटना फ्रंटियर के महानिरीक्षक डी. टंडन ने शनिवार को दी।

उन्होंने बताया कि जवानों को एक जून से पिपराकोठी में बचाव कार्य की ट्रेनिंग मिलेगी। प्रशिक्षित जवान जरुरत के मुताबिक संबंधित जिला प्रशासन के सहयोग में बाढ़ग्रस्त इलाके में लगाये जएंगे। उन्होंने कहा कि उनके सभी जवान पहले से ही प्रशिक्षित हैं, लेकिन बेहतर कार्य के लिए उन्हें पुन : प्रशिक्षण देना आवश्यक है। टंडन ने बताया कि एसएसबी बाढ़ से निपटने की पूरी तैयारी कर रही है। फाइवर (एफआरपी) के 14 मोटर वोट मंगवाये गए हैं। इसके अलावा लकड़ी की भी आधा दजर्न नाव है।

आपात स्थिति से निपटने के लिए जरुरत के उपकरणों की व्यवस्था की गयी है। गत वर्ष कोसी की त्रासदी में एसएसबी जवानों की भूमिका काफी सराहनीय रही। आईजी ने कहा कि बाढ़ प्रभावित क्षेत्र में प्रशिक्षित जवान जहां लोगों को बचाने का कार्य करेंगे, वहीं मेडिकल टीम प्रभावित क्षेत्र का दौरा कर आम लोगों के साथ पशुओं की भी देखभाल करेगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बाढ़ से निपटने को ट्रेंड होंगे एसएसबी के जवान