DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

उपचुनाव में दो सीटों को लेकर भाजपा-जदयू में पेंच फंस सकता है

उप चुनाव के दौरान विधानसभा की दो सीटों पर दावेदारी को लेकर भाजपा-जद यू में पेंच फंस सकता है। ये सीटें हैं-चैनपुर और वारिसनगर। दोनों सीटें वहां के विधायकों के सांसद बन जाने से खाली हुई हैं। मगर दावेदारी को लेकर यहां की स्थिति अलग है। चैनपुर से राजद विधायक महाबली सिंह इस्तीफा देकर जद यू में चले गए और काराकाट से लोकसभा चुनाव जीतकर सांसद बन गए जबकि वारिसनगर से लोजपा विधायक महेश्वर हजारी इस्तीफा देकर बतौर जद यू उम्मीदवार चुनाव लड़े और लोकसभा पहुंचे।

वर्ष 2005 में एनडीए में सीटों के बंटवारे में दोनों सीटें भाजपा के खाते में गई थीं लेकिन उसके दोनों उम्मीदवार चुनाव हार गए थे। भाजपा नेताओं से मिली जानकारी के मुताबिक पार्टी इसी आधार चैनपुर और वारिसनगर पर अपना स्वाभाविक दावा मान रही है। दूसरी तरफ जद यू सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक यहां से जीते हुए विधायक अब जद यू में आ गए और दल के टिकट पर चुनाव लड़कर सांसद भी बन चुके हैं।

इस लिहाज से इन दोनों सीटों पर उनका दावा अधिक बनता है। बहरहाल भाजपा बिना किसी विवाद में पड़े सभी छह सीटों पर चुनावी तैयारियों में जुट गई है और उम्मीदवारों की बाबत फीडबैक भी लेना शुरू कर दिया है। फिलहाल संबंधित जिलों के अध्यक्षों-महामंत्रियों और प्रमुख कार्यकर्ताओं का मन-मिजाज टटोला जा रहा है। उनसे मिली जानकारी के आधार पर संभावित उम्मीदवारों की सूची बनाई जाएगी और उसे चुनाव समिति में रखा जाएगा।

विधानसभा की 243 में से 17 सीटें विधायकों के इस बार सांसद चुने जाने से खाली हुई हैं। जिन छह सीटों पर भाजपा दावा जता रही है उनमें तीन-बेगूसराय, अररिया और बोधगया से उसी के विधायक सांसद बने हैं जबकि रामगढ़ सीट राजद विधायक जगदानन्द सिंह के सांसद बनने से खाली हुई है। पिछले विधानसभा चुनाव में उन्होंने भाजपा की मालती गुप्ता को हराया था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सीटों पर दावेदारी लेकर एनडीए में फंस सकता है पेंच