DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कबाड़ में थी दागदार चादर

नारी निकेतन बलात्कार प्रकरण में पुलिस को जांच के दौरान नारी निकेतन से कुछ सबूत मिले, जिन्हें पुलिस ने अपने कब्जे में ले लिया। दूसरी तरफ सोशल वेलफेयर विभाग की जिद से पीड़िता के कई बार प्रेग्नेंसी टेस्ट कराए गए हैं, जिसमें ये जानने की कोशिश की गई कि प्रेग्नेंसी कितने समय की है। परिणाम हर बार एक ही सामने आया कि प्रेग्नेंसी नौ हफ्तों की है जो कि अब उससे ऊपर जा चुकी है। 

बलात्कार मामले की जांच के दौरान नारी निकेतन के कबाड़ से दागदार चादर मिली है, जिसे पुलिस ने कब्जे में ले लिया है। पुलिस का कहना है कि यदि जांच में यह चादर बलात्कार से जुड़ी पाई गई तो यह एक पुख्ता सबूत हो सकता है। चादर की बारीकी से जांच की जा रही है। इसे सीएफएसएल भेज दिया गया है।

तीन बार हुए प्रेंग्नेंसी टेस्ट
18 मई को हुए अल्ट्रासाउंड में प्रेग्नेंसी 8 हफ्तों की बताई गई थी। दोबारा बैठे मेडिकल बोर्ड ने भी पीड़िता की प्रेग्नेंसी टेस्ट किया और गर्भावस्था के समय का खुलासा किया। 24 मई को जनरल अस्पताल सेक्टर-16 में फिर से री कनफर्मेशन टेस्ट किया गया, जिसमें नौ हफ्तों के गर्भ की बात सामने आई। डीएसडब्लयू यह मानने को तैयार नहीं है कि नारी निकेतन में ऐसा कुछ हो सकता है।


विभाग स्कीमों का भी उल्लंघन

इसके विपरीत ग्लोबल ह्यूमन राइट के अध्यक्ष अधिवक्ता अरविंद ठाकुर ने बताया कि साल 1999 में उनकी तरफ से नारी निकेतन के हालातों को लेकर सवाल उठाए गए थे। 1993 में सोशल वेलफेयर स्कीम के अनुसार नारी निकेतन में सारा स्टाफ ही फीमेल होना चाहिए जिसका उल्लंघन किया गया। स्कीम में लिखा गया है कि यदि नियुक्त सुपरीटेंडेंट या वार्डन शादीशुदा हैं तो उनका घर नारी निकेतन से बाहर रखा जाएगा, जबकि मौजूदा सुपरीटेंडेंट रितिका शादीशुदा हैं और उनका पूरा परिवार नारी निकेतन में ही रहता है। इसको लेकर ठाकुर ने कहा कि प्रशासन इसे गंभीरता से नहीं ले रहा है।

क्या कहते हैं एसएसपी
एसएसपी एसएस श्रीवास्तव ने कबाड़ से उक्त चादर मिलने की बात स्वीकारी है। उनका कहना है कि अधिकारी जांच कर रहे हैं। कमला व अन्य को गिरफ्तार करने के बारे में एसएसपी ने कहा कि जांच चल रही है।

भूपिंदर की पत्नी ने दी धरने की चेतावनी
नारी निकेतन में मानसिक रूप से कमजोर लड़की पर हुए बलात्कार के मामले में आरोपी भूपिंदर की पत्नी उसके बचाव में आ गई है। बलजिंदर कौर का कहना है कि उसके पति को जानबूझ कर फंसाया गया है। उसने कोई जुर्म नहीं किया। जांच में गर्भ होने का जो समय बताया गया है, उस समय उसका पति जलंधर में उसके साथ था। पुलिस ने बिना किसी जांच के ही उसके पति को गिरफ्तार कर लिया है। जल्द ही कोई कार्रवाई नहीं की गई तो वह सेक्टर-47 स्थित  सेंटर पर धरना देगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:कबाड़ में थी दागदार चादर