DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

प्रखंड, जिला और प्रदेश कमेटी की तैयार हुई ‘परफॉरमेंस रिपोर्ट’

राजद की रघुवंश कमेटी की बैठक शनिवार को नहीं हो सकी। प्रदेश राजद को मजबूत करने के लिए बनी 21 सदस्यीय इस हाई लेवल कमेटी के मात्र आठ सदस्य ही प्रदेश राजद कार्यालय पहुंच सके। हालांकि राजद की प्रदेश कमेटी की मैराथन बैठक चली। इस बैठक में भी कई सदस्य नदारद रहे पर जो उपस्थित थे उन्होंने पांच घंटे तक संगठन को सशक्त करने के लिए गंभीर मंथन किया। बैठक की अध्यक्षता प्रदेश अध्यक्ष अब्दुल बारी सिद्दीकी ने की। बैठक में प्रदेश कमेटी से लेकर प्रखंड कमेटी तक की ‘परफॉरमेंस रिपोर्ट’ तैयार की गई।

यह देखा गया कि लोकसभा चुनाव में किस जिला और प्रखंड कमेटी ने क्या-क्या कार्रवाई की। कहां-कहां राज्य सरकार के नकारात्मक कार्यो को जनता के समक्ष ले जाया गया। किसने पार्टी प्रत्याशी के पक्ष में तन-मन-धन से काम किया।प्रदेश कमेटी द्वारा तय ‘परफॉरमेंस रिपोर्ट’ के आधार पर रघुवंश कमेटी आगे की कार्रवाई करेगी। पार्टी सूत्रों की मानें तो बहुत दिनों बाद प्रखंड अध्यक्षों के नाम मीटिंग में लिये गये। क्षेत्र के सामाजिक समीकरण के हिसाब से उनकी नियुक्ति कितनी सही है या गलत, इसको परखा गया।

हालांकि प्रदेश अध्यक्ष अब्दुल बारी सिद्दीकी ने बैठक को ‘इन्टरल मीटिंग’ करार देते हुए कुछ भी कहने से इंकार किया। बैठक में प्रदेश उपाध्यक्ष शकुनी चौधरी और सीताराम सिंह, महासचिव गजेन्द्र प्रसाद सिंह, जावेद एकबाल अंसारी, रामजी मांझी और रामकेशी भारती के साथ ही मुख्य प्रवक्ता शकील अहमद खां शामिल नहीं हुए। वहीं रघुवंश कमेटी की बैठक में खुद रघुवंश बाबू ही उपस्थित नहीं हो सके।

प्रदेश कार्यालय आने वाले इस कमेटी के सदस्यों में जगदानन्द सिंह, रामचन्द्र पूर्वे, श्याम रजक, रामबदन राय, गुलाम गौस, रामचन्द्र निषाद, आलोक मेहता और शिवचन्द्र राम शामिल थे। हालांकि जगदानन्द सिंह ने बताया कि मीटिंग के समय को लेकर हुए कन्फ्यूजन के कारण शनिवार को बैठक नहीं हो सकी। यह बैठक रविवार को 11 बजे तय की गई है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:नहीं हो सकी रघुवंश कमेटी की बैठक