अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

उ. कोरिया प्रक्षेपित करेगा लंबी दूरी के मिसाइल

उ. कोरिया प्रक्षेपित करेगा लंबी दूरी के मिसाइल

उत्तर कोरिया अगले दो हफ्तों में लंबी दूरी की मिसाइल का परीक्षण कर सकता है। उधर अमरीकी रक्षा मंत्री रॉबर्ट गेट्स ने सिंगापुर में एक कार्यक्रम के दौरान उत्तर कोरिया को आगाह करते हुए कहा कि उसके भड़काऊ कदमों का उचित जवाब दिया जाएगा।

दक्षिण कोरिया की संवाद समिति योनहप ने खुफिया सूत्रों के हवाले से जानकारी देते हुए बताया कि उत्तर कोरिया के राजधानी प्रोंगयांग के पास स्थित सैनियम हथियार अनुसंधान केंद्र पर एक ट्रेन में लम्बी दूरी की मिसाइल को ले जाते हुए देखा गया है। सूत्र ने बताया कि इस बात की पूरी संभावना है कि उत्तर कोरिया जल्द ही परीक्षण करे। दक्षिण कोरिया और अमेरिकी प्रशासन इस पर बारिकी से नजर रख रहा है।

सूत्र ने बताया कि इस मिसाइल को करीब दो हफ्ते बाद प्रक्षेपण स्थल पर ले जाया जा सकता है। अमेरिकी रक्षा विभाग के अधिकारियों ने शुक्रवार को बताया कि उन्होंने उपग्रहों से प्राप्त तस्वीरों से उत्तर कोरिया में दो जगहों पर वाहन संबंधी गतिविधियों का पता लगाया है, जिससे इस बात की पुष्टि होती है कि वह लंबी दूरी की मिसाइल के प्रक्षेपण की तैयारी कर रहा है।

अमेरिकी रक्षा विभाग ने अधिकारी ने बताया कि उनके देश ने पिछले चौबीस घंटे में उत्तर कोरिया के उसी स्थान पर असामान्य गतिविधियों का पता लगाया है, जहां से उसने पहले भी लंबी दूरी के प्रक्षेपास्त्रों का परीक्षण किया है। दांग ए इलबो समाचारपत्र ने भी अमेरिकी खुफिया सूत्रों से हवाले से बताया है कि यह अनुसंधान केंद्र लंबी दूरी के प्रक्षेपास्त्र बनाने का उत्तर कोरिया का मुख्य केंद्र है।

उधर गेट्स ने दक्षिण पूर्व एशियाई देशों के संगठन आसियान के रक्षा मंत्रियों की बैठक में कहा कि यदि उत्तर कोरिया कोरियाई प्रायद्वीप या हमें निशाना कर तबाही मचाने के लिए हथियारों का जखीरा इकट्ठा करने की कोशिश करेगा तो हम चुप बैठने वाले नहीं है। हम उसे परमाणु संपन्न राष्ट्र के रूप में स्वीकार करने के लिए तैयार नहीं हैं।

उन्होंने कहा कि यदि उत्तर कोरिया इसी रास्ते पर चलता रहा तो क्षेत्र में स्थिरता महत्वपूर्ण मुद्दा हो जाएगा और इससे क्षेत्र में हथियारों की होड़ बढ़ेगी। उत्तर कोरिया द्वारा दूसरा परमाणु परीक्षण किए जाने के जवाब में संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के सदस्य रूस और चीन भी उसके खिलाफ प्रतिबंध लगाने के लिए सैद्धान्त्कि रूप से सहमत हो गए हैं, लेकिन यह प्रतिबंध किस तरह का होगा यह अभी स्पष्ट नहीं है। ये दोनों देश आमतौर पर उत्तर कोरिया पर प्रतिबंध लगाने का विरोध करते रहे हैं।

चीन ने पहली बार उत्तर कोरिया के खिलाफ कठोर रुख का परिचय देते हुए कहा है कि उत्तर कोरिया को हर हाल में अपने परमाणु हथियार नष्ट करने होंगे। चीनी सेना के उप प्रमुख ने सिंगापुर में एशियाई रक्षा मंत्रियों के सम्मेलन में कहा कि चीन का स्पष्ट मानना है कि कोरियाई प्रायद्वीप परमाणु शस्त्र मुक्त बनाया जाना चाहिए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:उ. कोरिया प्रक्षेपित करेगा लंबी दूरी के मिसाइल