DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जेठ के महीने में कोसी का रूप देखकर लोगों का दिल दहला

राज्य के  जल संसाधन मंत्री विजेन्द्र प्रसाद यादव ने गुरुवार को कुसहा कटाव स्थल पर बांध का निरीक्षण कर लोगों को भरोसा दिलाने का प्रयास किया कि नवनिर्मित बांध पूरी तरह सुरक्षित है और उसे किसी भी सूरत में नहीं टूटने दिया जयेगा। लेकिन लोगों को उनकी बातों पर विश्वास नहीं हो रहा है और अभी भी वे दहशत के साये में ही जी रहे हैं।

पिछले वर्ष कोसी की प्रलंयकारी बाढ़ ने जिनका सब कुछ लील लिया हो, वे भला निश्चिंत होकर कैसे सो सकते हैं। जब जेठ के महीने में कोसी का यह रूप है तो सावन-भादो में क्या होगा? यही चिंता उन्हें खाये ज रही है। चार-पांच दिनों से नेपाल के जलग्रहण क्षेत्र में हुई बारिश ने सरकार और बाढ़ प्रभावित क्षेत्र के लोगों की नींद उड़ा दी है।

हिन्दुस्तान टीम जब गुरुवार को कुसहा पहुंची तो पूर्वी एफ्लक्स बांध के 12.20 किमी के समीप कन्ट्री साइड में तटबंध से पानी का हल्का रिसाव हो रहा था। ग्रामीण कहते हैं-‘एहि बेर कोसी के रास्ता देखल छै, सरसराइले पुरान रास्ता पकेड़ लैते। हो भईया एहिना पिछलो बैर कनिये पानी निकलैत रहे जे भोखाड़ बैन गेले।’

हालांकि जल संसाधन मंत्री विजेन्द्र प्रसाद यादव ने तटबंध पर किसी प्रकार के खतरे की आशंका को खारिज करते हुए गुरुवार को कहा था कि इस रिसाव से तटबंध पर कोई फर्क नहीं पड़ने वाला है। बहरहाल बाढ़ से भयभीत लोग कोसी मईया से प्रार्थना कर रहे हैं कि इस बार कहर मत बरपाना। तटबंध कितना सुरक्षित रह पायेगा, यह तो आने वाला समय ही बतायेगा। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:कुसहा में तटबंध से हो रहा पानी का रिसाव