DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सरकार की कलई खुली, सीएम इस्तीफा दें : सपा

समाजवादी पार्टी ने कहा है कि गंगा एक्सप्रेस वे परियोजना पर रोक और लखनऊ  जेल की यथास्थिति बकरार रखने के हाईकोर्ट के  फैसले से बसपा सरकार की जन व किसान विरोधी नीति का खुलासा हो गया है। मुख्यमंत्री ने सत्ता में बने रहने का नैतिक आधार खो दिया है। उन्हें तत्काल इस्तीफा दे देना चाहिए। सपा ने अदालत के फैसले का स्वागत किया है।

सपा प्रवक्ता राजेन्द्र चौधरी ने कहा है गंगा एक्सप्रेस वे परियोजना पर रोक से लाखों किसान परिवार उजड़ने से बचेंगे। मायावती सरकार किसानों की जमीन पूँजीपतियों को सौंपने का मंसूबा संजोए थी। अपनी झोली भरने के चक्कर में प्रदेश का बंटाधार करने की मिसाल नहीं मिलेगा। यह लूट की योजना है। उन्होंने कहा कि हाईकोर्ट ने पर्यावरणीय मंजूरी के मसले पर जो बोला है उससे साफ हो गया है कि सरकार ने निर्धारित नियमों व प्रक्रिया से खिलवाड़ किया है। कोर्ट ने गरीब किसानों के हित में सरकार के मनमाने तौर तरीकों पर रोक लगाकर जनता का उपकार किया है।

सपा प्रवक्ता ने कहा कि समाजवादी पार्टी ने ही सबसे पहले गंगा एक्सप्रेस वे परियोजना के खिलाफ आवाज उठाई थी। नेता प्रतिपक्ष मुलायम सिंह यादव ने इसे विकास के नाम पर किसानों के साथ धोखा बताया था। उन्होंने कहा था कि इस परियोजना में किसानों की सिंचित व उपजाऊ  जमीन चली गई तो वह बेरोजगार हो जाएँगे।

सपा प्रवक्ता ने कहा कि मायावती सरकार की ओर से कांशीराम स्मारक के विस्तार के लिए लखनऊ  जेल को ध्वस्त करने के फैसले पर हाईकोर्ट की रोक और यथास्थिति बरकरार रखने के आदेश से यह ऐतिहासिक जेल भवन बचत गया। कोठी व जमीन खरीदने व  वसूली को बसपा सरकार दलित कल्याण का नाम देती हैं। अदालतों से फटकार के बाद भी उसका रवैया नहीं बदला है। हाईकोर्ट के फैसले के बाद  इस सरकार को सत्ता में बने रहने का अधिकार नहीं है। मुख्यमंत्री तुरन्त इस्तीफा देना चाहिए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:गंगा एक्सप्रेस लूट की योजना: सपा