DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पंजाब पुलिस को भेदिये के होने का शक

सेक्टर-33 के व्यापारी के साथ हुई अपहरण और लूट की वारदात के पीछे पुलिस को ‘भेदिये’ के होने का शक है। ऐसे में वो हर शख्स पुलिस की निगाह में है जो डकैतों तक सूचना पहुंचाने का जरिया हो सकता है। इसमें सबसे अहम भूमिका ड्राइवर की हो सकती है। ऐसा भी हो सकता है कि किसी ने बातों ही बातों में ड्राइवर से सूचनाएं निकलवा ली हों। पुलिस छोटी से छोटी जानकारी को हरियाणा पुलिस के साथ साझा कर डकैतों तक पहुंचने की कोशिश कर रही है। ड्राइवर नरेंद्र से पूछताछ हो रही है। दिल्ली से पीछा करने की बात का अधिकारियों ने खंडन किया है।

हाईवे रॉबर्स का यह गिरोह करनाल से लेकर कुरुक्षेत्र तक सक्रिय है। अक्सर ढाबों और यात्रियों को देख अंदाज लगाकर ही ये अपनी योजना को अंजाम देते हैं। हालांकि कुछ लोगों का कहना है कि हो सकता है कि डकैत एयरपोर्ट से ही पीछे लगे हों या फिर उनके गैंग के सदस्य वहीं से उनके पीछे पड़े हों।

फीलिपिंस से लौट रहे व्यापारी ललित बहल के बारे में क्या लुटेरों को पहले से ही जानकारी थी या सिर्फ लग्जरी कार देखकर ही वे इनके पीछे पड़ गए थे? पुलिस इस सवाल को सुलझने में लगी है क्योंकि यदि पहले से लुटेरों को जानकारी थी तो यह काम किसी भेदिए का है और उसी के जरिए आरोपियों तक पहुंचा जा सकता है।

हरियाणा से मांगा ब्यौरा

एसएसपी सुधांशु शेखर ने  बताया है कि हरियाणा पुलिस से हाईवे राबरी में सक्रिय रहे बदमाशों का ब्योरा मांगा गया है। हरियाणा पुलिस ने कुछ लुटेरों की तस्वीरें बहल परिवार को दिखाई भी हैं। सूत्रों का कहना है कि तस्वीरें देखने के बाद बहल परिवार एक दम हरकत में आया। जिस गिरोह की तस्वीरें बहल परिवार को दिखाई गई है। वह गिरोह दिल्ली में कई वारदातों को अंजाम दे चुका है। लूटेरों के स्केच शुक्रवार को  जारी होने थे लेकिन किसी कारण से जारी नहीं हो सकी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पंजाब पुलिस को भेदिये के होने का शक