अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

शिक्षकों के वेतन पर कन्फ्यूजन ,सचिव के साथ तीन को होने वाली बैठक में साफ होगी तस्वीर

जशेदपुर। वित्त सचिव राजबाला वर्मा के पत्र के आलोक में शिक्षकों के वेतन भुगतान पर लगी रोक की तस्वीर गुरुवार को भी साफ नहीं हो पायी। ये बात दीगर है कि शिक्षक संघ वेतन भुगतान को लेकर लगातार कोषागार पर दबाव बनाये हुए है। डीएसइ पूर्णानंद सिंह ने बताया कि वित्त सचिव के पत्र के अनुसार शिक्षकों के वेतनमान को सेन्ट्रल स्कूलों की तर्ज पर निर्धारित करने और पद अंकित करने का निर्देश आया है। इस पत्र के बाद कोषागार ने वेतन भुगतान पर रोक लगा दी है। उन्होंने कहा कि छठे वेतनमान की सिफारिशों केआलोक में जो वेतन निर्धारण हुआ है, उस पर सवाल उठाये जा रहे हैं। ऐसे में सरकार द्वारा स्पष्ट निर्देश प्राप्त होते ही एक बार फिर से शिक्षकों के वेतन को निर्धारित करना होगा, ताकि भुगतान सही हो।

वेतन निर्धारण के कुछ ग्रेड में विसंगति बतायी जा रही है, लेकिन इस बारे में कोई स्पष्ट निर्देश नहीं होने के चलते कन्फ्यूजन की स्थिति बनी हुई है। कोल्हान आरडीडीइ नागेन्द्र ठाकुर ने बताय कि यह कन्फ्यूजन की स्थिति सभी जिलों में बनी हुई है। वे इस मामले को आगामी तीन जून को शिक्षा सचिव और निदेशक के साथ होने वाली बैठक में रखेंगे। ठाकुर ने कहा कि तीन की बैठक के बाद स्थिति स्पष्ट हो पायेगी। उल्लेखनीय है कि शिक्षकों को वेतन भुगतान मार्च के बाद नहीं हो पाया है। मार्च में वेतन निर्धारण होने के बाद शिक्षकों ने फरवरी में नया वेतनमान लिया। लेकिन बताया जा रहा है कि वेतन निर्धारण में विसंगति होने के कारण शिक्षकों ने निर्धारित वेतनमान से ज्यादा की निकासी की। नये आदेश के आलोक में वैसे शिक्षकों के वेतन से कटौती की बात हो रही है। इधर, इस संबंध में शिक्षा सचिव कार्यालय को कुछ जानकारी नहीं है। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:शिक्षकों के वेतन भुगतान पर कन्फ्यूजन-