DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

स्कीम गायब होने से बीएसएनएल कारोबारियों को घाटा

मोबाइल के रिचार्ज कूपन का व्यवसाय करने वाले बीएसएनएल कारोबारी पिछले दस दिनों से लगातार घाटा उठा रहे हैं। रिचार्ज कूपन पर कोई स्कीम न होने से कारोबार में सन्नाटा छाया हुआ है, वहीं बीएसएनएल के उपभोक्ता भी परेशान होकर भटक रहे हैं।


अप्रैल के पहले सप्ताह में रिचार्ज कूपन पर स्कीम के लिए उपभोक्ताओं को तरसाने वाली बीएसएनएल ने एक बार फिर पुराना दाँव आजमाया है। इस बार लगभग दो सप्ताह होने जा रहे हैं जब बीएसएनएल ने रिचार्ज कूपन पर कोई स्कीम नहीं लाँच की है। लिहाजा उपभोक्ताओं को रिचार्ज कराने की सुविधा नहीं मिल रही है। रिटेलर्स ने स्कीम वाले रिचार्ज कूपन 15 मई से पहले ही बेच डाले थे और अब बगैर स्कीम वाले रिचार्ज कूपन लेने से कतरा रहे हैं। फ्रेंचाइजी और डीएसए को डर है कि रिचार्ज कूपन खरीदने के बाद किसी भी दिन स्कीम कूपनों की घोषणा की जा सकती है। ऐसे में उनकी मौजूदा खरीद डंप हो जायेगी और जबरदस्त घाटा उठाना पड़ेगा। बीएसएनएल के एक डीएसए ने बताया कि बीते दस दिनों में उसने अधिकतम पाँच हजार रुपये का बिजनेस किया होगा जिसमें सिमकार्ड की बिक्री भी शामिल है।

जबकि मई के पहले पखवारे में उसका बिजनेस 70 हजार रुपये से ऊपर तक गया था। इसकी एकमात्र वजह बीएसएनएल की स्कीम आने में हो रही देरी है। ऐसे में रिटेलर्स अपने यहाँ आने वाले उपभोक्ताओं को थोड़ा ठहर कर चार्ज कराने या फिर तब तक निजी कंपनियों के कूपन लेने का सुझाव दे रहे हैं। जानकार सूत्रों का यह भी कहना है कि इससे आगरा क्षेत्र में ही बिजनेस पर खासा प्रतिकूल असर पड़ा है। 15 मई के बाद से सेल में जबरदस्त गिरावट आयी है। हालांकि इसी सप्ताह में नयी रिचार्ज स्कीम आने की उम्मीद बनी हुई हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:स्कीम गायब होने से बीएसएनएल कारोबारियों को घाटा