DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सिटी बसें देंगी साढ़े पंद्रह सौ को रोजगार

जेनर्म के तहत आगरा और मथुरा में चलने वाली सिटी बसों में साढ़े पंद्रह सौ से ज्यादा लोगों को रोजगार भी मिलेगा। फिलहाल रोडवेज के संविदा कर्मियों और आउटसोर्सिग के जरिये कर्मचारियों की जरूरत पूरी की जएगी। मुख्य सचिव की बैठक में हरी झंडी मिलने के बाद कर्मचारियों की भर्ती प्रक्रिया शुरू होगी।

अगले महीने के प्रथम पखवारे में शुरू होने वाली सिटी बस सेवा में साढ़े पंद्रह सौ लोगों को रोजगार मिलेगा। आगरा और मथुरा में जवाहर लाल नेहरू अरबन रिन्यूवल मिशन के तहत कुल 260 बसों को संचालित किया जायेगा। दस बसों के संचालन के लिए कम से कम 27 कर्मचारियों की जरूरत होगी। बस संचालन के लिए निर्धारित मान दंडों के अनुसार एक बस पर दो दशमलव सात की दर से कर्मचारियों को तैनात किया जाता है। इससे कर्मचारियों की डयूटी शिफ्ट के अनुसार लगाने के साथ ही उन्हें साप्ताहिक अवकाश भी दिया जा सके। इस तरह 260 बसों के लिए 702 चालक और इतने ही परिचालकों की जरूरत होगी। आधा दर्जन वरिष्ठ केंद्र प्रभारी, तीन यातायात अधीक्षक, तीन स्टेशन अधीक्षक, 38 कैशियर, चार लेखाकार और 80 क्लर्क व बुकिंग क्लर्क की जरूरत होगी। इसके अलावा बीस चतुर्थ श्रेणी के कर्मचारियों को भी तैनात किया जएगा।

सहायक क्षेत्रीय प्रबंधक रोडवेज अतुल श्रेत्रिय ने बताया कि रोडवेज की ओर से जो प्रस्ताव सिटी बसों के संचालन के सिलसिले में तैयार किया गया है, उसमें मानदंडों के अनुसार ही कर्मचारियों की जरूरत बतायी गयी है। बसों के संचालन में प्रशिक्षित और कुशल स्टाफ की जरूरत होगी जो फिलहाल रोडवेज संगठन अपने मौजूदा स्टाफ से पूरा करने की कोशिश करेगा। इसमें रोडवेज के संविदाकर्मियों के अलावा कुछ कर्मचारियों को प्रतिनियुक्ति पर सिटी बस सेवा में भेजा जायेगा। फिलहाल रोडवेज प्रबंधन पर आगरा शहर के साथ ही मथुरा की साठ बसों के संचालन का भी जिम्मा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सिटी बसें देंगी साढ़े पंद्रह सौ को रोजगार