DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मनमाने ढंग से जरी नहीं होंगे जन्म-मृत्यु प्रमाणपत्र

मनमाने ढंग से अब जन्म-मृत्यु प्रमाणपत्र नहीं दिया जएगा। कमिश्नर सुरेश चंद्रा के निर्देश पर अब नियत समय में लोगों को प्रमाण-पत्र जरी किया जएगा। कमिश्नर से शिकायत की गई थी कि जन्म-मृत्यु कार्यालय भ्रष्टाचार का अड्डा बन गया है। प्रमाण-पत्र देने के एवज में मोटी रकम उगाही ज रही है। कमिश्नर के निर्देश पर नगर स्वास्थ्य अधिकारी डा.बीके सिंह ने आज नियत समय सीमा के अंदर प्रमाण-पत्र जरी करने को कहा।

उन्होंने कहा कि कुछ लोग कर्मचारियों पर दबाव बनाकर मनमाने ढंग से प्रमाण-पत्र जरी करा रहे हैं। नियमानुसार पुराना प्रमाण-पत्र जरी करने की समय सीमा 30 दिन और नए के लिए सात दिन है। अब इसी अवधि में जन्म-मृत्यु प्रमाण-पत्र जरी किया जएगा।

इस बीच नगर आयुक्त डा.नंद किशोर ने मुख्य चिकित्साधिकारी को पत्र लिखकर मेडिकल री-इंबर्समेंट के लिए डाक्टरों की टीम गठित करने का आग्रह किया है। उन्होंने कहा है कि कुछ कर्मचारी नियम विरुद्ध तरीके से मेडिकल री-इंबर्समेंट का पैसा ले रहे हैं। इस पर अंकुश लगाने के लिए कमेटी का गठन जरूरी है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:अब तीस दिन में मिलेगा पुराना प्रमाण-पत्र