DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नागरिकों ने निर्माण कार्य कराने वाले ठेकेदार व मुंशी को घेरा

दशाश्वमेध घाट पर स्थित सुलभ शौचालय का उपयोग बंद करने संबंधी सूचना लिखने पर क्षेत्रीय नागरिकों ने केद्रीय लोक निर्माण विभाग के ठेकेदार और मुंशी का घेराव किया। बाद में क्षेत्रीय विधायक श्याम देव राय चौधरी के हस्तक्षेप के बाद स्थिति शांत हुई।

पर्यटन विभाग ने दशाश्वमेध घाट स्थित सुलभ शौचालय का नवीनीकरण करने के लिए केंद्रीय लोक निर्माण विभाग को करीब 12 लाख रुपये का ठेका दे रखा है। सीपीडब्ल्यूडी का ठेकेदार टीटू और मुंशी अशोक श्रीवास्तव आज सुलभ शौचालय में पहुंचे। शौचालय की दीवार पर गेरू से लिखवा दिया कि निर्माण कार्य के चलते इसका उपयोग बंद है।

शौचालय के केयर टेकर मो.कलीम की सूचना पर सुलभ इंटरनेशनल के वाइस चेयरमैन प्रियदर्शिनी झा और सुपरवाइजर रजवन सिंह मौके पर पहुंचे। उन्होंने ठेकेदार को निर्देश दिया कि शौचालय का जीर्णोद्धार एक साथ न किया जए। ऐसा करने पर पर्यटकों और क्षेत्रीय नागरिकों को दिक्कत होगी। बताया जता है कि ठेकेदार एक साथ पूरा निर्माण कार्य कराने पर अड़ गया।

इसी बची पार्षद पति रमेश तिवारी, पूर्व पार्षद नरसिंह दास, व्यापारी नेता सुरेश तुलस्यान मौके पर पहुंचे। उनके साथ बड़ी संख्या में स्थानीय नागरिक भी थे। उन्होंने ठेकेदार का घेरवा किया। बाद में विधायक श्याम देव राय चौधरी को सूचना मिली तो उन्होंने सीपीडब्ल्यूडी के अधिशासी अभियंता एसबी पांडेय से वार्ता की।

पांडेय का कहना था कि एक साथ निर्माण कार्य कराने पर कार्यो की गुणवत्ता ठीक होती है। इसीलिए एक साथ निर्माण कार्य कराने का निर्देश दिया गया था। विधायक और अफसरों के हस्तक्षेप के बाद विवाद शांत हो गया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:दशाश्वमेध घाट पर शौचालय का प्रयोग रोकने पर बवाल