DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पेंशन के लिए धक्के खाते वृद्ध

वर्तमान वित्तीय वर्ष में वृद्ध पेंशनधारकों के लिए आवंटित धनराशि अभी भी कई लाभार्थियों के खाते में नहीं पहुंचा है। ऐसे लाभार्थी कई दिनों से विभाग का चक्कर काट रहे हैं, लेकिन अधिकारी हैं कि उनकी सुनते ही नहीं। 
जनपद में कुल वृद्ध पेंशनर की संख्या 2100 है।

प्रदेश सरकार से इन्हें प्रति माह 300 रुपए पेंशन के रूप में मिलता, जो स्वत: ही इनके खाते मे विभाग द्वारा ट्रांसफर कर दिया जता है। लेकिन, वर्तमान वर्ष में चुनाव के कारण करीब एक माह के लिए सभी योजनाएं ठप पड़ गई थी और लाभार्थियों के खाते में पैसे भी नहीं पहुंचे। अचार संहिता खत्म होने के बाद ठप पड़ी सभी योजनाओं पर काम करने की कवायद शुरू हुई, लेकिन अधिकारियों के लापरवाही के कारण कई लाभार्थियों के खाते में दो महीने का पेंशन अभी भी नहीं पहुंचा है।


दो महीने तक पेंशन का इंतजार करने के बाद बिसरख, दादरी और जेवर के कई लाभार्थी सीधे समाज कल्याण विभाग पहुंचे। लाभार्थियों का कहना है कि उन्होंने इस बात समाज कल्याण अधिकारी बात की। अधिकारी ने पेंशन के पैसे एक-दो दिनों में उनके खाते में पहुंचने की बात कह उन्हें घर भेज दिया। इस घटना के करीब एक पखवाड़े बाद भी गरीब वृद्ध पेंशनरों का पेंशन उनके खाते में नहीं पहुंचा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पेंशन के लिए धक्के खाते वृद्ध