DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

वाकी-टाकी से लैस होगी आरपीएफ

जल्द ही आरपीएफ जवान वाकी-टाकी से लैस होंगे। नेपाल बार्डर से वाराणसी व गोरखपुर होकर गुजरने वाली ट्रेनों पर विशेष नजर रहेगी। वहीं ट्रेनों की सुरक्षा के लिए ‘इंटिग्रेटेड प्लान’ तैयार किया गया है। आने वाले दिनों में आरपीएफ अत्याधुनिक असलहों से लैस होगी। साथ ही डाग स्क्वायड की संख्या बढ़ाई जाएगी। यह कहना है पूर्वोत्तर रेलवे आरपीएफ के मुख्य सुरक्षा आयुक्त श्रीकांत के मिश्र का।

जहरखुरानों से सतर्कता संबंधी जगरुकता अभियान की शुरुआत करने बनारस आए मुख्य सुरक्षा आयुक्त ने हिन्दुस्तान से बातचीत में कहा कि नेपाल की घटनाओं को देखते हुए बार्डर से गुजरने वाली ट्रेनों में विशेष सतर्कता बरती ज रही है। इनमें वाराणसी से जने वाली स्वतंत्रता सेनानी, सद्भावना, गोरखपुर से जाने वाली आम्रपाली, सम्पूर्ण क्रांति सहित एक दजर्न ट्रेनें शामिल हैं। गोंडा-बहराइच आदि इलाका नेपाल बार्डर से जुड़ा है।

माओवादियों की गतिविधियों पर सिविल व रेलवे इंटेलिजेंस संयुक्त रूप से नजर रखे हुए है। कहा कि सुरक्षा व्यवस्था को बेहतर बनाने के लिए रेलवे बोर्ड को सुरक्षा इंटिग्रेटेड प्लान तैयार किया गया है। इसके तहत आरपीएफ जवानों को जल्द ही हाई फ्रीक्वेंसी वाले वाकी-टाकी से युक्त किया जएगा। प्रथम चरण में दो सौ वाकी-टाकी आरपीएफ को मिलेंगे, ताकि ट्रेनों में एस्कार्टिग के दौरान सूचनाओं का आदान प्रदान किया ज सके।

इसके अलावा डीरेका, गोरखपुर यार्ड आदि स्थानों तैनात जवानों को भी वाकी-टाकी दिए जएंगे। कहा कि जवानों के लिए एके-47 व इंसास राइफलों की संख्या बढ़ायी जएगी। इसके अलावा बुलेट प्रूफ जकेट, हैंड डिटेक्टर, मेटल डिटेक्टर, मिरर ट्राली सहित अन्य अत्याधुनिक उपकरण का एक प्रस्ताव रेलवे बोर्ड को भेज गया है। उन्होंने सेफ्टी-सिक्योरिटी से जुड़े प्रोजेक्ट को जल्द स्वीकृत मिलने की संभावना जताई। एक सवाल के जवाब में कहा कि स्टेशनों व महत्वपूर्ण ट्रेनों में जरूरत के मुताबिक महिला सुरक्षा बलों की भी तैनाती की ज रही है। कहा कि जंच के लिए अभी वाराणसी मंडल आरपीएफ के पास सिर्फ एक डॉग स्क्वायड है। मंडुआडीह में डॉग स्क्वायड की संख्या बढ़ाई जनी है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:वाकी-टाकी से लैस होगी आरपीएफ