अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नवनिर्मित पांच स्परों पर पानी का दबाव बढ़ा

भारी बारिश से कोसी नदी का जलस्तर बढ़ने के कारण कोफर डैम संख्या एक एवं तीन टूट गया है जिससे ब्रीच क्लोजर के मजबूत करने का काम प्रभावित हो गया है। कोफर डैम के टूट जने के बाद नदी नवनिर्मित बांध से सट गई है और नवनिर्मित पांच स्पर पर पानी का दबाव बढ़ गया है। हालांकि डैम की सुरक्षा से जुड़े कार्यपालक अभियंता जेएन सिंह ने कहा कि इससे बांध को मजबूत करने के काम पर कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा।

हेडवक्र्स डिवीजन के कार्यपालक अभियंता अब्दुल हामिद ने कहा कि कोफर डैम की ताकत 10 हजर क्यूसेक की थी जबकि पानी 90 हजर क्यूसेक आ गया जिससे डैम टूटा। डैम के टूटने से बांध के मजबूतीकरण के कार्य पर कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा। दूसरी ओर कोफर डैम टूटने की सूचना पर नेपाल के जलस्रोत सचिव डा. शंकर प्रसाद कोइराला एवं गृह सचिव गोविन्द कुसुम ने भी कुसहा क्लोजर एवं टूटे हुए कोफर डैम का जयजा लिया।

वीरपुर के एसडीओ संदीप कुमार आरपी ने भी स्थिति का जयजा लिया। मालूम हो कि 13 मई को जल संसाधन सचिव अजय नायक ने कोफर डैम को हर हालत में 15 जून तक बचाने का अधिकारियों को निर्देश दिया था। लेकिन 13 दिन बाद ही कोफर डैम पानी के दबाव के कारण टूट गया।

राज्य के जल संसाधन मंत्री विजेन्द्र प्रसाद यादव ने दूरभाष पर बताया कि तटबंध पर कोई खतरा नहीं है। कोफर डैम की क्षमता 15 हजर क्यूसेक की होती है। नदी में अधिक पानी आने के कारण पानी कोफर डैम को ओवरफ्लो कर गया है जिससे भयभीत लोगों ने 13.50 किमी पर हंगामा किया है।

नेपाल स्थित दूतावास के अधिकारियों को वहां की स्थिति का जयजा लेने के लिए भेज गया है लेकिन बांध पूरी तरह सुरक्षित है और इस पर किसी प्रकार का खतरा नहीं है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:जलस्तर बढ़ने से कोफर डैम टूटा