DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मुख्यमंत्री के निर्देश के बाद मंत्री ने मांगी रिपोर्ट

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के निर्देश के बाद जल संसाधन मंत्री विजेन्द्र प्रसाद यादव ने कोसी तटबंध से संबंधित अद्यतन रिपोर्ट तलब की है। यही नहीं राज्य मुख्यालय ने स्थिति पर नजर रखने के लिए इंजीनियर इन चीफ देवी रजक, संयुक्त सचिव इंदूभूषण कुमार और केबी कैट के सचिव मो. कबीर को तत्काल कोसी के लिए रवाना कर दिया है। कोसी तटबंध पर विभिन्न स्थलों पर हो रहे कटाव और स्थानीय समस्याओं को राज्य सरकार ने काफी गंभीरता से लिया है।

बिहार के तमाम अधिकारी 32 किलोमीटर तक कोसी के संपूर्ण तटबंध का निरीक्षण करेंगे। उधर नेपाल के गृह सचिव गोपाल प्रसाद कुसुम, जल संसाधन सचिव शंकर प्रसाद कोइराला और नेपाल स्थिति भारत के दूतावास के अधिकारी आलोक सिन्हा ने भी मंगलवार को कोसी तटबंध कास्थल निरीक्षण किया। बिहार के जल संसाधन मंत्री, विभाग के प्रधान सचिव अजय वी. नायक और कोसी सलाहकार रेवती रमण सिन्हा बुधवार को कुसहा जाएंगे।


 मुख्यमंत्री ने मंगलवार को जल संसाधन मंत्री के अलावा विभाग के वरीय पदाधिकारियों के साथ कोसी तटबंध के निर्माण कार्य की समीक्षा की। मंत्री ने उन्हें निर्माण कार्य से संबंधित सारी जानकारी विस्तार से दी। मुख्यमंत्री ने तत्काल मंत्री को अद्यतन रिपोर्ट मंगाने का निर्देश दिया। बैठक के बाद मंत्री ने बताया कि कुसहा तटबंध की मरम्मत पूरा होने के बाद वहां उसके सुदृढ़ीकरण का कार्य चल रहा है। गत वर्ष आई भीषण बाढ़ के बाद कॉफर डैम और पायलट चैनल का निर्माण भी किया गया था। इसके अलावा पांच नए स्पर भी बनाए गए हैं। कई कार्य जलस्तर के साथ होता है।


उधर पिछले कई दिनों से कोसी का जलस्राव लगातार बढ़ने के कारण  तटबंध पर दबाव बढ़ गया है। कई जगह कटाव भी हुए और मिट्टी धंसी भी। यही नहीं कॉफर डैम के बड़े हिस्से से होकर पानी बहने लगा है। मंत्री ने बताया कि कॉफर डैम का निर्माण ही गत वर्ष नदी की धारा मोड़ने के लिए की गयी थी और वह कार्य सफलतापूर्वक हो गया। कॉफर डैम को टूटने के लिए ही बनाया जाता है। उसका उद्देश्य पूरा हो चुका है। अलबत्ता मुख्यालय स्थिति पर गंभीरता से नजर रखे हुए है। उन्होंने तटबंध के पूर्ण सुरक्षित होने का दावा किया।

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मुख्यमंत्री के निर्देश के बाद मंत्री ने मांगी रिपोर्ट