DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

व्रत और त्योहार / पंचांग

श्री महाराणा प्रताप की 468 वीं जयंती। वनायकी श्री गणोश चतुर्थी व्रत। सूर्य उत्तरायण। सूर्य उत्तर गोल। ग्रीष्म श्रृतु। मध्याह्न् 12 से 1 बजकर 30 मिनट तक राहु कालम्।

पंचांग

सूर्य : वृष राशि में, चंद्रमा : मिथुन राशि में, बुध : मेष (वक्री) राशि में, शुक्र : मीन राशि में, मंगल : मेष राशि में, वृहस्पति : कुंभ राशि में, शनि : सिंह राशि में, राहु : मकर राशि, केतु : कर्क राशि में।
27 मई, बुधवार, 6 ज्येष्ठ (सौर) 1931, ज्येष्ठ मास 13 प्रविष्टे 2066, 2 जमादि उस्सानी सन हिजरी 1430, ज्येष्ठ शुक्ल तृतीया प्रात: 7:45 तक तदनन्तर चतुर्थी रात्रि 4:40 तक उपरान्त पंचमी, आद्र्रा नक्षत्र प्रात: 11 बजकर 4 मिनट तक तदनन्तर पुनर्वसु नक्षत्र, शूल योग प्रात: 7 बजकर 54 मिनट तक पश्चात गण्ड योग रात्रि 4 बजकर 17 मिनट तक उपरान्त वृद्धि योग, गर करण, चन्द्रमा रात्रि 3 बजकर 22 मिनट तक मिथुन राशि में पश्चात कर्क राशि में।      पं. वेणी माधव गोस्वामी

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:व्रत और त्योहार / पंचांग