DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सर्वदलीय बैठक में दोषियों को कड़ी सजा की मांग

वियना में हुई घटना की जोरदार निंदा करते हुए पंजाब में राजनैतिक दलों ने मंगलवार को केंद्र से अनुरोध किया कि वह आस्ट्रियाई सरकार के साथ बातचीत तेज करे ताकि उस घटना के दोषियों को कड़ी सजा दी जा सके।

मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल द्वारा बुलाई गई सर्वदलीय बैठक में यहां सर्वसम्मति से प्रस्ताव पारित किया गया। इसमें उस अपराध के लिए जिम्मेदार लोगों को कठोर सजा देने की मांग की गई। दो घंटे तक चली बैठक के बाद मीडिया को संबोधित करते हुए बादल ने कहा कि भारत सरकार को इस मामले को आस्ट्रियाई सरकार के समक्ष उठाना चाहिए और संत रामानंद का शव मुल्क लाया जाना चाहिए। इस बैठक में शिरोमणि अकाली दल, भाजपा, कांग्रेस, माकपा, भाकपा, बसपा और शिवसेना ने भी हिस्सा लिया।

बैठक में घटना की जोरदार निंदा की गई और बादल ने लोगों से अपील की कि वे शांति एवं सांप्रदायिक सौहार्द कायम रखें। बैठक में वियना में अपराध के षडयंत्रकारियों को देश विरोधी और असामाजिक तत्व बताया गया।
बादल ने कहा है कि राज्य सरकार सूबे में पिछले दो दिनों के दौरान भड़की हिंसा के दौरान हुए नुकसान का पूरा हरजाना देने को तैयार है। उन्होंने दावा किया कि राज्य के अधिकांश हिस्सों में स्थितियां नियंत्रण में हैं।

उन्होंने कहा कि अगर पंथ के लोग चाहें तो राज्य सरकार दिवंगत पंथगुरु का राजकीय ढंग से अंतिम संस्कार करने को तैयार है। केंद्रीय गृहमंत्री पी. चिदंबरम के राज्य सरकार द्वारा हालात को नियंत्रित करने के लिए उचित कदम न उठाने संबंधी बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए उन्होंने कहा, ‘हिंसा भड़क जने के बाद स्थितियां हमारे नियंत्रण से बाहर हो गईं। सेना बुलाने और अर्धसैनिक बलों को पुलिस की मदद करने में थोड़ा वक्त लगता है।’

इस बीच, आस्ट्रिया ने भारत को आश्वासन दिया है कि रविदासी धर्मगुरु संत रामानन्द का शव भारत भेजने के प्रबंध किए जा रहे हैं। आस्ट्रिया के विदेशमंत्री माइकेल स्पाइंडेलगर ने विदेशमंत्री एस.एम. कृष्णा को टेलीफोन कर इस घटना का ब्यौरा बताया तथा हमलावरों को गिरफ्तार कर दंडित करने का भरोसा दिलाया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सर्वदलीय बैठक में दोषियों को कड़ी सजा की मांग