अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सुबोध थे इत्मीनान चौधरी रहे परशान

रांची में चुनावी महापर्व का महामंथन एक घंटे देर से शुरू हुआ। शुरू से लेकर आखिरी वक्त तक रोमांचकारी रहा। अंत-अंत में कांग्रेस प्रत्याशी सुबोधकांत सहाय को जीत तो मिली, लेकिन चेहर पर संतोष के भाव नहीं दिखे। सुबोधकांत सहाय सुबह जब मतगणना केंद्र पर पहुंचे थे, तो उनका चेहर खिला थो। वहीं भाजपा प्रत्याशी रामटहल चौधरी के चेहर पर मिश्रित भाव था। वह जीत के प्रति काफी आश्वस्त नहीं दिख रहे थे। जबकि सुबोधकांत सहाय जीत के प्रति आश्वस्त दिखे। फोटोग्राफरों को विजयी मुद्रा में उन्होंने फोटो भी दी। कांग्रेस कैंप में खासा उत्साह का माहौल था। तंबू के बाहर बड़ा सा बैनर और सुबोधजी का कट-आउट लगा था। चेहर पर उत्साह के भाव लिये वह मतगणना केंद्र के भीतर भी गये, लेकिन आधे घंटे बाद ही वह बाहर निकल गये।ड्ढr वहीं रामटहल चौधरी मतगणना केंद्र में बैठे अपनी बढ़त पर इत्मीनान हो रहे थे। हिम्मत और धैर्य के साथ चौधरी आखिरी वक्त तक जमे रहे। हालांकि 12वें राउंड से ही सुबोधकांत सहाय ने बढ़त बनानी शुरू कर दी थी।ड्ढr 1वें राउंड में तो सुबोधकांत ने रामटहल चौधरी को 14 हाार मतों से पीछे छोड़ दिया। धीर-धीर चौधरी ने धैर्य खो दिया और सुबोध जी के भीतर आने से पहले ही बाहर निकल पड़े। 4.40 बजे फिर सुबोधकांत सहाय पहुंचे। इस बार वह सर्टिफिकेट लेने आये थे। लेकिन उनके चेहर पर भाव सुबह की तरह नहीं थे। किसी बात की कसक उनके मन में जरूर थी। हालांकि मुख्य द्वार पर उनके कार्यकर्ताओं ने उन्हें फूल-मादा से लाद दिया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: सुबोध थे इत्मीनान चौधरी रहे परशान