अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मोटी आमदानी के लालच में कामकाजी महिलाओं को बना रहे शिकार

सावधान! अगर आप कामकाजी लड़की हैं, अच्छी तनख्वाह है, जवान हैं, और किसी चाहने वाले की तलाश में हैं। तो सचेत हो जइए। कोई हमउम्र या फिर अधेड़ भी प्यार का नाटक करके आपके जीवन के साथ खिलवाड़ कर सकता है।

साइबर सिटी में घरेलू हिंसा की शिकार महिलाओं के लिए चल रही स्पेशल सेल में आ रहे मामलों से तो कम से कम ऐसा ही खुलासा हो रहा है। वर्तमान में स्पेशल सेल में दजर्नों कामकाजी लड़कियां पतियों की इसी घिनौनी साजिश की शिकायत लेकर पहुंच रही हैं।

साइबर सिटी में रहने वाली श्वेता, सीमा, कल्पना वो लड़कियां हैं। जिनकी दौलत पर कब्ज जमाने के लिए उन्हें प्यार का झंसा देकर उनसे शादी रचाई गई। जब बेवफा पतियों ने उनकी सारी जमा पूंजी व प्रॉपट्री अपने नाम करवा ली। तो दूध में से मक्खी की तरह उन्हें अलग कर दिया। मूलरुप से मणिपुर निवासी 30 वर्षीय श्वेता (परिवर्तित नाम) गुड़गांव में एक मल्टीनेशनल कंपनी में काम करती है। उसकी मासिक आय करीब चालीस हजर रुपये है। प्रेम में छलावा करके छह साल पहले 50 वर्षीय एक अधेड़ ने उससे शादी की।

पीड़िता को बताया था कि उसका इस दुनिया में कोई नहीं। धीरे-धीरे उसने सारी जमा पूंजी अपने नाम करवा ली। जबकि महीने भर की कमाई भी अपने कब्जे में करता रहा। मगर, पिछले साल जब उसे पति के शादी शुदा व उसके दो बच्चे होने का पता लगा, तो उसके पैरों तले जमीन खिसक गई। मासिक 50 हजर रुपये कमाने वाली सीमा के साथ भी ऐसा ही धोखा हुआ। मीठी-मीठी बातें करके एक पांच हजर रुपये कमाने वाले लड़के ने उससे शादी की। मगर, उसकी सारी प्रोपट्री कब्जने के बाद उससे नाता तोड़ दिया।

डीएलएफ निवासी कल्पना ने जिस बेसहारा आदमी को आर्थिक व भावानात्मक रुप से मजबूत किया और उससे शादी की। आज वो ही उसे प्रताड़ित कर रहा है। स्पेशल सेल की प्रोटेक्शन ऑफिसर मीना कुमारी के अनुसार मोटी आमदानी के लालच में कई पुरुष कामकाजी महिलाओं से सोची-समझी साजिश के तहत शादी रचा रहे हैं। मंशा पूरी होने के बाद ही उनका असली चेहरा पीड़िता के सामने आ रहा है।

 

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:कामकाजी महिलाओं को बना रहे शिकार