अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

हेमा मालिनी से तुलना तो होगी ही

हेमा मालिनी से तुलना तो होगी ही

एनडीटीवी के महžवाकांक्षी प्रोजेक्ट ‘सीता और गीता’ में डबल रोल निभा रही अंजूरी अलघ से रचना दुबे की बातचीत

..तो मैं सीता से बात कर रही हूं या गीता से?

(हंसते हुए) इस वक्त मैं अंजूरी अलघ हूं। एक बार कट होते ही मैं अपने मौलिक स्वरूप में लौट आती हूं। मैं एक साथ तीन जीवन जी रही हूं और यही बात किसी भी अभिनेत्री के भीतर एक्साइटमेंट पैदा कर देती है।

ऐसा लगता है कि आप टीवी पर अपनी शुरुआत का आनंद उठा रही हैं?

 इसमें कड़ी मेहनत के साथ-साथ फन भी खूब है। अभी किसी तरह की कोई चिंता नहीं है, लेकिन शो ऑन एयर होने के बाद तनाव भी पैदा होना शुरू हो जएगा और मुङो लगता है कि टीवी की दुनिया सिनेमा की दुनिया से बहुत ज्यादा अलग नहीं है। दिन के अंत में आप उसी तरह मेहनत करते हैं, जसे सिनेमा में।

आपको तो डबल मेहनत करनी पड़ती होगी?

(हंसते हुए) सचमुच, क्योंकि मैं डबल रोल निभा रही हूं। मुङो लगता है टीवी पर इससे बढ़िया शुरुआत नहीं हो सकती। 

हेमा मालिनी के नक्शे कदम पर चलते हुए डर लग रहा है?

मुङो मालूम है कि शो शुरू होते ही मेरी हेमा जी से तुलना शुरू हो जएगी और मैं इसके लिए मानसिक रूप से खुद को तैयार कर रही हूं। मैंने उनकी फिल्म ‘सीता गीता’ असंख्य बार देखी है और मुङो लगता है कि जिस तरह उन्होंने सीता-गीता की भूमिका निभाई है, उस तरह कोई नहीं निभा सकता। मैं केवल उनकी परफॉर्मेस के करीब पहुंचने की कोशिश करूंगी।

शूटिंग शुरू होने से पहले इसके लिए वर्कशॉप्स भी की गईं?

गीता की भूमिका के लिए।

खबर यह भी है कि एनडीटीवी के सीईओ समीर नायर आपके ब्रदर इन ला हैं, इसलिए आपको इस सीरियल में लिया गया है?

आपके इस सवाल पर मुङो कोई हैरानी नहीं हो रही। वास्तव में सीता और गीता मेरे ब्रदर इन लॉ के चैनल का सबसे बड़ा प्रोजेक्ट है और मैं इस प्रोजेक्ट का हिस्सा हूं। लेकिन सच यह है कि इसके लिए मेरा उसी तरह ऑडिशन हुआ, जिस तरह दूसरे कलाकारों का ऑडिशन हुआ। और दिलचस्प बात है कि जब से मैंने इसका अनुबंध साइन किया है, समीर नायर समेत मेरे परिवार का कोई सदस्य यह नहीं जनता कि मैं यह सीरियल कर रही हूं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:हेमा मालिनी से तुलना तो होगी ही