DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कोलकाता सीख रहा बिहार से रेलमंत्री को खुश करने के टिप्स

 नए रेलमंत्री को खुश करने की टिप्स ‘बिहार’ से सीखी जा रही है। लालू प्रसाद को रेलमंत्री के रूप में रेल अधिकारी किस तरह ट्रीट करते थे, यह जानकारी कोलकाता के लिए भी जरूरी हो गई है। अब कोलकाता के रेल अधिकारी भी ऐसी जानकारी जुटा रहे हैं कि ‘मंत्री’ खुश कैसे रहते हैं।

ममता बनर्जी के रेल मंत्री बनने के बाद से रेल मंत्रालय के लिए कोलकाता सबसे हॉट प्लेस हो गया है। इस जानकारी के लिए बिहार के रेल अधिकारी उनके सबसे बड़े मददगार हो रहे हैं। इस समय रेल अधिकारियों के पास कोलकाता के हर रोज कई फोन आते हैं जो मंत्री के साथ कदमताल करने के गुर जानना चाहते हैं। यही नहीं वे मंत्री के अप्रत्यक्ष प्रोटोकॉल को पूरा करने की भी जानकारी लेते हैं।


 कोलकाता के अधिकारी पूछते हैं,‘सर! लालूजी को कैसे टैकल करते थे। उनके साथ तो कई आदमी होते होंगे, एमपी एंड मिनिस्टर आलसो। काफी मुश्किल होता होगा। उनके मूवमेंट...।’ दूसरी जगह से फोन आता है,‘ मंत्री किस-किस बात पर नाराज होता है?’ या फिर,‘अधिक मूवमेंट को कैसे टैकल करते हो।’

कोलकाता में पूर्व रेलवे के साथ-साथ दक्षिण पूर्व रेलवे का मुख्यालय है। यही नहीं मेट्रो का भी मुख्यालय वहां है। ऐसे में ममता बनर्जी के लिए रेल अधिकारियों का चिन्तित होना लाजिमी भी है। हालांकि ममता बनर्जी इसके पहले भी कुछ दिनों के लिए रेलमंत्री रह चुकी हैं, लेकिन इस बार उनकी अवधि छोटी नहीं होने वाली यह सारे अधिकारी जानते हैं।

उनकी गतिविधियों पर नजर रखना और उनकी नाराजगी से बचने की कसरत युद्धस्तर पर जारी है। ऐसे में बिहार के अधिकारी उनके सबसे बड़े मददगार हो सकते हैं यह भी सभी जानते हैं। बिहार पिछले 12-13 वर्षो में इस कार्य में महारत हासिल कर चुका है। लालू प्रसाद के पूर्व नीतीश कुमार और रामविलास पासवान यहां से लगातार मंत्री हो चुके हैं।

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:ममता के रेलमंत्री बनते ही हरकत में आया कोलकाता