अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आईएएस बनने कि है ख्वाहिश सचिन की

 सीबीएसई की दसवीं की परीक्षा में 98.6 फीसदी अंक हासिल कर साइबर सिटी के सचिन यादव ने पंचकूला रीजन में टॉप करने का गौरव हासिल किया है। दिल्ली पब्लिक स्कूल(मारूति कुंज) के छात्र सचिन की ख्वाहिश आईआईटी से इंजीनियरिंग क रने के बाद आईएएस बनने की है। 500 में 493 अंक हासिल करने का श्रेय वह अपने शिक्षकों और माता-पिता को देते हैं। परीक्षा के दौरान एनसीईआरटी की किताबों का सहारा लिया और पंचकूला रीजन में टॉप किया है।

सचिन ने बताया कि दसवीं में पेपर काफी अच्छा हुआ था। उन्होंने  बताया कि 98 प्रतिशत से अधिक अंक आने की उनकी उम्मीद थी। जैसे ही सुबह इंटरनेट पर रिजल्ट देखा वे खुशी से फूले नहीं समाए। मनमाफिक परीक्षाफल आने पर ऐसा लगा जैसे घर में एक साथ तमाम खुशियां मिल गई हो। एक्साइज एंड टैक्सेशन डिपार्टमेंट में बतौर अधिकारी कार्यरत सचिन के पापा एसएस यादव और मां ने सचिन को मिठाई खिलाकर मुंह मीठा किया।

हिन्दुस्तान से विशेष बातचीत में सचिन यादव ने बताया उन्होंने परीक्षा को कभी भी हौवा नहीं बनने दिया। शुरूआती दौर से हर वक्त एक जैसी पढ़ाई की। इस कारण उन्हें एक्जाम के दिनों में किसी तरह की परेशानी नहीं आईं। कभी भी मैंने पढ़ाई को घंटों में नहीं बांटा। इसी के वजह से सफलता हाथ लगी। सचिन ने इंग्लिश में 97, हिंदी 99,मैथ्स 99, साइंस 99 और सोसल साइंस 99 प्रतिशत अंक हासिल किए। पिता एसएस यादव ने कहा कि सचिन तीसरी क्लास से ही पढ़ने में तेज था। आठवीं में भी वह क्लास में अव्वल रहा था।

उन्होंने बताया कि सचिन को अपने ही पढ़ने दिया गया। उसके उपर कोई बात नहीं थोपी गई। डीपीएस मारूति कुंज की प्रिंसिपल रचना पंडित ने सचिन को बधाई देते हुए कहा कि पढ़ाई के दौरान किसी समस्या होने पर टीचर को कंसल्ट कर, तुरंत इसका समाधान ढूंढ लेता था। उन्होंने कहा कि सचिन की इस कामयाबी में स्कूल के सभी शिक्षकों का पूरा सहयोग रहा हैं। पढ़ाई के जब मन ऊबने पर सचिन अपना पसंदीदा खेल क्रिकेट के शॉट्स लगाना पसंद करते हैं।

 

 

 

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:आईएएस बनने कि है ख्वाहिश सचिन की