अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

50 लाख की फिरौती के लिए किया गया था अपहरण

केशवपुरम इलाके से अगस्त 2008 में अगवा किए गये छात्र की हत्या के आरोप में स्पेशल सेल ने बी.टेक के छात्र गौरव (26) व उसके दोस्त महेन्द्र (26) को गिरफ्तार किया है। उन्होंने चिराग को अगवा कर 50 लाख रुपये की फिरौती मांगी थी। अपहरण के अगले दिन ही उन्होंने उसकी हत्या कर दी थी।


पुलिस उपायुक्त आलोक कुमार के अनुसार 18 अगस्त 2008 को सुरेश खंडेलवाल नामक व्यवसायी ने केशव पुरम थाने में उसके बेटे चिराग के अपहरण की शिकायत की थी। उसने पुलिस काे बताया कि 12वीं कक्षा में पढ़ने वाला चिराग 17 अगस्त की दोपहर 2 बजे ट्यूशन पढ़ने के लिए गया था। रात काे किसी ने फोन करके उसके पिता से चिराग को छोड़ने के लिए 50 लाख रुपये की फिरौती मांगी। पुलिस ने मामला दर्ज कर छानबीन शुरू की।


21 अगस्त को अपहरणकर्ताओं ने फिरौती की रकम लेकर सुरेश को सम्राट सिनेमा के पास बुलाया, लेकिन वह रुपये लेने नहीं आये।  इसके बाद फिरौती के लिए कोई फोन नहीं आया। दिसंबर महीने मे मामले की जांच स्पेशल सेल को सौंपी गई। छानबीन के लिए एसीपी रवि शंकर की देखरेख में इंस्पेक्टर ब्रह्मजीत सिंह और संदीप मल्होत्रा की टीम बनाई गई।


पुलिस ने उसके साथ स्कूल व ट्यूशन में पढ़ने वाले, रिश्तेदारों और पड़ोसियों से पूछताछ की लेकिन कुछ खास नहीं मिला। छानबीन कर रही पुलिस टीम ने आखिरकार 22 मई को शकरपुर इलाके से गौरव उर्फ राजा (26) को गिरफ्तार कर लिया। चिराग का मोबाइल उसके पास से बरामद हो गया। उसने पुलिस को बताया कि अपने दोस्त महेन्द्र की सहायता से उसने चिराग का अपहरण किया और फिर उसकी हत्या कर दी थी। उसकी निशानदेही पर पुलिस ने महेन्द्र को द्वारका से गिरफ्तार कर लिया।

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:अपहरण के बाद हत्या, गिरफ्तार