अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एनडीए की आंधी में राजद-लोजपा ध्वस्त

इस आंधी में चाबी भी भूल गयी। - सतीश रोह नवादाड्ढr पीएम तय करने वालों को मंत्री पद के भी लाले पड़ गए।-इम्त्यिाज गोपालगंजड्ढr इसे कहते हैं एक तीर से दो शिकार। - अजय कुमार पाठक छपराड्ढr न किंग रहे न किंगमेकर। - तारिक बेतियाड्ढr बड़ा उलटफेर हुआ इस चुनाव मेंड्ढr बेशक, ताला-चाबी सब गुम हो गया। - माधव सासारामड्ढr दाल नहीं गलेगी क्षेत्रीय दलों की। - इमरान अली शेरघाटी, गयाड्ढr ड्ढr जीत पर खूब उड़े रंग-गुलालड्ढr हार पर खूब गिर आंसुओं के रंग। - शाहबाज हशमत मोतिहारीड्ढr कांग्रेस के साथ गठबंधन न करना भूलड्ढr कांग्रेस को औकात बताते-बताते अपने औकात में आ गए।-सत्येन्द्र हाजीपुरड्ढr इस अंडर करंट की ताप तो अभी रहनी हैड्ढr तभी तो एसी में रहने की आदत लग जाती है। - एमके मधु नरकटियागंजड्ढr कांग्रेस के कारण नुकसान : पासवानड्ढr नहीं, जातीय समीकरण और घटिया राजनीति के कारण हुआ नुकसान।-राजनड्ढr लालू सारण में जीते और पाटलिपुत्र में हारड्ढr यानी जीत भी खिचड़ी हो गयी। - संतोष सुरीला मिल्की सारणड्ढr ड्ढr लालू का किला हुआ ध्वस्तड्ढr विकास का तीर जो चला है।- शहनाज प्रवीण गोपालगंजड्ढr नीतीश के तीर से लालू के लालटेन भभक गईल। - अरविंद छपराड्ढr अमृत कलश यूपीए कोड्ढr सागर मंथन के लिए नायक जो मिल गया। - प्रभुनाथ राय जहानाबादड्ढr नीतीश के नए सामाजिक समीकरण का चला जादूड्ढr यानी बिहार में अब नीतीश युग की शुरुआत हुई। - प्रेमजीत पटेल गयाड्ढr आयातित कांग्रेसियों को जनता ने किया खारिाड्ढr पर असली बचे कितने हैं?- श्रीधर तिवारी बक्सरड्ढr कोसी ने खोला नीतीश की जीत का द्वारड्ढr अब तो कोसीवासियों की पीड़ा कम होनी चाहिए। - जीतेन्द्र औरंगाबादड्ढr देखते रह गए छोटे दलड्ढr देश की सरकार में मुहल्ले के दलों का क्या काम?- पीके दरगन मुजफ्फरपुरड्ढr किशनगंज के रास्ते कांग्रेस का प्रवेशड्ढr बांगलादेश, भूटान और नेपाल की सीमा नजदीक जो है।-कृष्णानंद फारबिसगंजड्ढr पद बांटने में छूटेंगे यूपीए के पसीनेड्ढr तो आप क्यों परशान है? - नवल किशोर पटना

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: एनडीए की आंधी में राजद-लोजपा ध्वस्त