class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

चयादा नमक, बीपी को न्योता

आज की भागदौड़ और तनाव भरी लाइफ स्टाइल के कारण ब्लड प्रेशर आम हो गया है। हाई बीपी के साथ ही डॉयबिटीज है, तो हार्ट अटैक की आशंका चार गुणा ज्यादा बढ़ जाती है। विश्व में होने वाली कुल मौतों में से छह प्रतिशत ब्लड प्रेशर और इससे जुड़ी बीमारियों के कारण होती है।ड्ढr बढ़ रहा है ब्लड प्रेशरड्ढr अपोलो रांची के इंटरवेंशनल कार्डियोलॉजिस्ट डॉ दीपक गुप्ता का कहना है कि ब्लड प्रेशर से हृदय को नुकसान पहुंचता है। यही वजह है कि हृदय रोग बढ़ रहा है और शुरुआत में जानकारी-ाागरूकता की कमी से लोग उस स्टज में अस्पताल पहुंचते हैं, जब उन्हें दिल का दौरा पड़ चुका होता है। डॉ दीपक गुप्ता के अनुसार ब्लड प्रेशर 12080 मिमी ऑफ मर्करी नॉर्मल है। इसमें होन वाली बढ़ोत्तरी हार्ट अटैक और ब्रेन स्ट्रोक के खतरों की तरफ ल जाती हैं। हाई ब्लड प्रेशर कई समस्याओं का कारण है, इसीलिए इस साइलंट किलर कहा जाता है। डायबिटीज के रोगियों में बीपी 11575 मिमी ऑफ मर्करी ही नॉर्मल माना जाता है। डायबिटीज के रोगियों को यदि हाई ब्लड प्रेशर है, तो हार्ट अटैक का रिस्क चार गुना तक बढ़ जाता है। डॉयबिटीज के साथ ब्लड प्रेशर होने की स्थिति में बीपी और शुगर कंट्रोल के साथ वट पर भी नियंत्रण रखना चाहिए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: चयादा नमक, बीपी को न्योता